Home » इंडिया » BSF replace Baba Ramdev to Jaggi Vasudev of yoga quest changes
 

बाबा रामदेव को तगड़ा झटका, BSF ने जग्गी वासुदेव के साथ किया योग का करार

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 June 2018, 13:43 IST

बाबा रामदेव को बड़ा झटका लगा है. बाबा रामदेव की पतंजलि का शिविर बीएसएफ जवानों के लिए लगता था लेकिन बीएसएफ ने अब पतंजलि से करार खत्म करते हुए ईशा फाउंडेशन के जग्गी वासुदेव से नाता जोड़ लिया है. दरअसल, बाबा रामदेव ने दो साल पहले बीएसएफ को योग का प्रशिक्षण देने का करार किया था वह अब खत्म चुका है.

बता दें कि पतंजलि योगपीठ के बैनर तले बीएसएफ के जवानों को ट्रेनिंग दी जाती थी जोकि बाद में जवानों की पीटी में तब्दील हो गई, लेकिन इस साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर जग्गी वासुदेव खुद सियाचीन के बेस कैंप में सेना के जवानों को ट्रेनिंग देते नजर आए.

वहीं दूसरी तरफ, बीएसएफ का कहना है कि सिर्फ एक ही व्यक्ति या संस्था से ट्रेनिंग लेने की कोई बाध्यता नहीं थी, ऐसे में यह फैसला लिया गया. अब बाबा रामदेव की पतंजलि से बीएसएफ की कोई डील नहीं है. 

 

बता दें कि दो साल पहले साल 2016 में बाबा रामदेव ने बीएसएफ के जवानों को योग की ट्रेनिंग देनी शुरू की थी. तब यह ट्रेनिंग बाबा रामदेव के हरिद्वार स्थित पतंजलि योगपीठ में हुई थी. सरकार ने भी उनके द्वारा ट्रेंड किए गए बीएसएफ के जवानों को काफी सराहा था और 2016 में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयुष मंत्रालय ने बाबा रामदेव द्वारा प्रशिक्षित बीएसएफ जवानों के बैच को सबसे अच्छा समूह बताया था.

इसकी वजह से बीएसएफ में बाबा रामदेव की पकड़ मजबूत हो गई और इसका फायदा उठाते हुए बाबा रामदेव ने 2017 में दिल्ली स्थित बीएसएफ हेडक्वार्टर में पतंजलि का स्टोर खोल दिया था. लेकिन, बीएसएफ पर बाबा रामदेव का मोह ज्यादा दिनों तक नहीं चला और 2017 में बीएसएफ को बेस्ट ट्रेनिंग देने का क्रेडिट सद्गुरु जग्गी वासुदेव के पास चला गया.

जग्गी वासुदेव की संस्था ईशा फाउंडेशन अब बीएसएफ के जवानों को योग की ट्रेनिंग देती है. ईशा फाउंडेशन सिर्फ बीएसएफ ही नहीं, ईशा फाउंडेशन सीआरपीएफ, सीआईएसएफ, कोस्ट गार्ड और सेना के जवानों को भी ट्रेनिंग दे रही है.

First published: 25 June 2018, 13:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी