Home » इंडिया » BSF soldier honey trapped for ISI, send information to Pakistan for 2 years, UP police arrested
 

हनीट्रैप का शिकार हुआ BSF जवान, 2 साल तक पाकिस्तान भेजता रहा खुफिया जानकारी, गिरफ्तार

कैच ब्यूरो | Updated on: 20 September 2018, 8:09 IST
(File Photo)

उत्तर प्रदेश ATS एंटी टेररिस्ट स्क्वाड ने एक BSF के जवान को गिरफ्तार किया. जवान पर आरोप था की वो 2 साल तक सेना की खुफिया जानकारी पाकिस्तान के आईएसआई एजेंट को देता था. जानकारी के अनुसार जवान हनीट्रैप का शिकार हो गया था. उसे एक महिला ने सोशल मीडिया के जरिये हनीट्रैप में फंसाया था जो की खुद को सेना की रिपोर्टर बताती थी.

अच्युतानंद मिश्रा नाम के इस बीएसएफ जवान को नोएडा से दो दिन पहले गिरफ्तार किया गया था. ATS ने बुधवार को उसे मीडिया के सामने पेश किया जिसके बाद उसे एक लोकल कोर्ट में पेश किया गया जहां कोर्ट ने उसे 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया. बुधवार रात से ही उसको 5 दिनों की पुलिस हिरासत में भेजा गया.

इस मामले में DGP ओपी सिंह ने बताया कि BSF जवान इजिप्ट की महिला ने सोशल मीडिया के जरिये अपने जाल में फंसा लिया. और वो उसे सेना की खुफिया जानकारी भेजता रहा. बतया जा रहा है कि महिला पाकिस्तानी जासूसी एजेंसी आईएसआई के लिए काम करती है.

DGP ने बताया कि बीएसएफ के इस जवान के बारे में उत्तर प्रदेश पुलिस को चंडीगढ़ की मिलिट्री इंटेलिजेंस से पता चला जिसके बाद पुलिस ने उसे दो दिन पहले नोएडा में पकड़ कर गिरफ्तार कर लिया. आरोपी अच्युतानंद मिश्रा मध्य प्रदेश रीवा का रहने वाला है. जिसकी 2006 में BSF में भर्ती हुई थी. बताया जा रहा है कि आरोपी के 2 बच्चे भी हैं.वो सोशल मीडिया के जरिये 2016 में उस महिला के संपर्क में आया था. महिला ने उसे खुद को एक अखबार के लिए डिफेन्स रिपोर्टर बताया था.

डीजीपी ने बताया, ''धीरे धीरे महिला ने उसे अपने प्रभाव में ले लिया और फिर उससे सेना की खुफिया जानकारी निकलवाने लगी. उसने उस महिला को बीएसएफ के यूनिट लोकेशन, और कैंप की स्थिति और तसवीरें भी भेजीं.''

ओवैसी का PM मोदी पर हमला- उन महिलाओं के लिए बनाएं कानून जिनके पति साथ नहीं रहते

इतना ही नहीं जवान की कॉल्स से ये पता चलता है कि उन दोनों के बीच कश्मीर को लेकर भी बातें होती थीं. पाकिस्तान के एक फ़ोन नंबर पर भी उस जवान की बात होती थी. पुलिस के अनुसार जवान के मोबाइल फ़ोन पर पाकिस्तान का ये नंबर ''पाकिस्तानी दोस्त'' के नाम से सेव था.

 

First published: 20 September 2018, 8:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी