Home » इंडिया » Budget 2018: India remains the world's largest arms importer, crisis still
 

बजट 2018 : भारत दुनिया का सबसे बड़ा हथियार इम्पोर्टर, संकट फिर भी कायम

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 January 2018, 12:20 IST

भारत दुनिया का पांचवां सबसे बड़ा सैन्य खर्च करने वाला देश बन गया है. थिंक टैंक स्टॉकहोम इंटरनेशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट के मुताबिक 2012 और 2016 के बीच दुनिया के कुल आयात का 13% भारत ने किया. हालांकि तीन साल से 2017-18 तक आवश्यकताओं के मुकाबले पूंजी निवेश के लिए बजट आबंटन में 9% कमी रह सकती है. एक रिपोर्ट के मुताबिक 2017-18 की रक्षा संबंधी संसदीय स्थायी समिति ने ये आंकड़े प्रस्तुत किये. 

रिपोर्ट में कहा गया है कि वायु सेना का कैपिटल बजट उसकी आवश्यकताओं की तुलना में 46% कम था, जबकि यह सेना का 41% और नौसेना का 32% था. 2017-18 में राजस्व (वेतन, परिवहन लागत, भंडार), पूंजी निवेश (उपकरण, गोला-बारूद), पेंशन और विविध- सहित बजट में खर्च के लिए 35 9, 854 करोड़ रूपए का इजाफा हुआ, जो 2012-13 में 230,642 करोड़ रूपये से बढ़कर 56% हो गया. 2017-18 में केंद्र सरकार के बजट में 17% (21.46 ट्रिलियन) रक्षा आवंटन का हिस्सा था. हालांकि एक रिपोर्ट के मुताबिक तीन साल से 2017-18 तक, पूंजी निवेश के लिए बजट आवंटन में 9% कमी का अनुमान है.

2017-18 में बजट व्यय में बढ़कर 35 9 रुपये हो गया. राजस्व (वेतन, परिवहन लागत, भंडार), पूंजीगत निवेश (उपकरण, गोला-बारूद), पेंशन और विविधता सहित बजट बजट में 854 करोड़ रूपए तक की वृद्धि हुई, जो 2012 में 230,642 करोड़ रुपए थी. 2017-18 में केंद्र सरकार के बजट का 17% (21.46 ट्रिलियन) रक्षा आवंटन का हिस्सा था.

एक रिपोर्ट के मुताबिक पिछले वित्तीय वर्ष में कुल बजट की 12.22 फ़ीसदी राशि रक्षा क्षेत्र पर आवंटित की गई जो कि बीते दो दशकों में कुल बजट का सबसे कम हिस्सा था. 1988 में रक्षा क्षेत्र पर जीडीपी का 3.18 फ़ीसदी राशि आवंटित की गई, लेकिन उसके बाद से लगातार गिरावट देखने को मिली है.

पिछले बजट में भारत की कुल जीडीपी का 1.6 फ़ीसदी हिस्सा रक्षा पर खर्च करने के लिए आवंटित किया गया था जबकि वैश्विक स्तर यह मानक दो से 2.25 फ़ीसदी है. भारत की तुलना में चीन ने अपनी जीडीपी का 2.1 फ़ीसदी हिस्सा रक्षा पर खर्च करने के लिए आवंटित किया. जबकि पाकिस्तान ने 2.36 फ़ीसदी हिस्सा है.

First published: 31 January 2018, 12:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी