Home » इंडिया » Budget 2018: people disappointed by modi govt budget, labour union bms to protest against modi government
 

बजट 2018: बजट के विरोध में 'RSS', मोदी सरकार के खिलाफ करेगा देशव्यापी प्रदर्शन

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 February 2018, 13:15 IST

मोदी सरकार ने 1 फरवरी को अपनी सरकार का आखिरी पूर्णकालिक बजट पेश किया है. मोदी सरकार का यह अंतिम बजट था इस वजह से इस बजट पर लोगों की आंखें तथा आशाएं टिकी हुई थीं. लेकिन लोगों की प्रतिक्रियाएं देखकर लगता है कि इस बजट से लोग उतने खुश नहीं हैं जितनी उम्मीद थी. इसे लेकर आरएसएस का सहयोगी संगठन भी नाराज नजर आ रहा है.

आरएसएस के सहयोगी संगठन 'भारतीय मजदूर संघ' ने बजट को निराशाजनक बताते हुए शुक्रवार को देशव्यापी प्रदर्शन का ऐलान किया है. भारतीय मज़दूर संघ का कहना है कि बजट में मज़दूरों और नौकरीपेशा वर्ग का बिल्कुल भी ध्यान नहीं रखा गया है. न तो इनकम टैक्स स्लैब में कोई बदलाव किए गए हैं और न ही मज़दूरों के हित में कोई बड़ी घोषणा की गई.

 

भारतीय मजदूर संघ ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और आशा कर्मचारियों के लिए भी सरकार सिर्फ मायूसी लेकर आई है. लोकसभा चुनाव जल्द कराए जाने की अटकलों के बीच आरएसएस के सहयोगी संगठन का यूं खुलकर बजट के विरोध में आना, सरकार के लिए अच्छा संकेत नहीं माना जा रहा है.

 

बता दें कि भारतीय मजदूर संघ, आरएसएस का सहयोगी संगठन है यह मजदूरों के लिए काम करता है. इसके पहले भी भारतीय मजदूर संघ मोदी सरकार की नीतियों की आलोचना करता रहा है. संघ ने नोटबंदी और जीएसटी को लेकर भी कहा था कि इसके चलते छोटे और मध्यम उद्योगों को काफी नुकसान हुआ है.

सरकार के कुछ सहयोगी दल भी  मोदी सरकार के बजट से नाखुश हैं. टीडीपी नेता और केंद्र सरकार में राज्य मंत्री वाईएस चौधरी ने कहा, 'हम आज पेश किए गए केंद्रीय बजट से निराश हैं. राज्य से जुड़े कई जरूरी मुद्दे जैसे रेलने ज़ोन, पोलावरम प्रॉजेक्ट फंडिग, राजधानी अमरावती के लिए फंडिंग और आंध्र प्रदेश के लिए लंबित कई मुद्दों का बजट में ध्यान नहीं रखा गया है.' 

First published: 2 February 2018, 13:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी