Home » इंडिया » bulandshahar gangrap issu reach supreme court
 

बुलंदशहर गैंगरेप: बयान पर बुरे फंसे आजम, पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट में दी अर्जी

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 August 2016, 15:41 IST
(एजेंसी)

बुलंदशहर गैंगरेप मामले में हो रही राजनीति से आहत 14 साल की पीड़िता ने शनिवार को सुप्रीम कोर्ट से न्याय की गुहार लगाई. इससे कैबिनेट मंत्री आजम खान की मुश्किलें बढ़ गई हैं.

पीड़िता की ओर से दायर याचिका में सुप्रीम कोर्ट से समाजवादी पार्टी के नेता और अखिलेश सरकार में कैबिनेट मंत्री आजम खान समेत कई पुलिसकर्मियों के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की गई है.

आजम पर केस दर्ज करने की मांग

आजम खान ने बुलंदशहर गैंगरेप के पीछे सियासी साजिश की आशंका जताई थी. याचिका में आजम खान के साथ ही उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी केस दर्ज करने की मांग की गई है, जिन्होंने हादसे के समय पीड़ित परिवार की मदद नहीं की थी.

आजम खान ने कथित रूप से कहा था, "इस केस में हमें इस बात पर भी ध्यान देना होगा कि कहीं यह विवाद विपक्षी दल ने सरकार को बदनाम करने के लिए तो नहीं पैदा किया है.

जो लोग सत्‍ता हासिल करना चाहते हैं, वे राजनीतिक फायदे के लिए कुछ भी कर सकते हैं. मुजफ्फरनगर, शामली और कैराना हो सकता है, तो यह क्‍यों नहीं?"

आजम ने कहा था, "सत्‍ता के लिए राजनेता लोगों की हत्‍या कराते हैं, दंगे भड़काते हैं, निर्दोष लोगों को मारते हैं, इसलिए जांच में सच का सामने आना जरूरी है."

केस दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग

सुप्रीम कोर्ट से पीड़िता ने न्याय की गुहार के साथ अपने परिवार की सुरक्षा, अपनी शिक्षा और दूसरी जगह घर दिलवाने की भी अपील की है.

याचिका में इस केस को यूपी से दिल्ली ट्रांसफर करने की दरख्वास्त की गई है. पीड़िता चाहती है कि इस मामले की निगरानी खुद सुप्रीम कोर्ट करे, क्योंकि उसे शक है कि जांच में पक्षपात हो सकता है.

29 जुलाई को वारदात

गौरतलब है कि महिला और उसकी बेटी 29 जुलाई की रात अपने परिवार के साथ शाहजहांपुर से आ रही थीं. बुलंदशहर में एनएच-91 पर बदमाशों ने उनकी कार को लोहे की रॉड से हमला किया था.

उसके बाद जैसे ही चालक ने गाड़ी रोकी, वैसे ही बंदूक की नोक पर बदमाशों ने उन्हें बंधक बना लिया और परिवार के साथ लूटपाट की गई थी. लूटपाट के बाद महिला और उसकी नाबालिग बेटी से गैंगरेप किया गया.

पुलिस इस मामले में मुख्य अभियुक्त सलीम बावरिया समेत छह लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस मामले की सीबीआई जांच का आदेश दिया है.

First published: 13 August 2016, 15:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी