Home » इंडिया » Bulandshahr Violence: Bajrang Dal leader Yogesh Raj is the Mastermind, police arrested
 

बुलंदशहर: बजरंग दल का नेता है भीड़ को उकसाने वाला मास्टर माइंड, इंस्पेक्टर की हुई बेरहमी से हत्या

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 December 2018, 12:01 IST

बुलंदशहर में गोकशी के शक में हुई हिंसा के कारण एक इंस्पेक्टर की हत्या कर दी गई. अब इस हिंसा के मास्टर माइंड का नाम सामने आया है. पुलिस ने बजरंग दल के नेता योगेश राज को गिरफ्तार कर लिया है. सोमवार रात से ही जारी छापेमारी में पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है. इसके अलावा 75 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

इस हिंसा का मुख्य साजिशकर्ता योगेश राज बजरंग दल से जुड़ा है और आरोप है कि उसने ही वहां मौजूद लोगों को भड़काया है. इसके बाद पुलिस ने योगेश राज को भी गिरफ्तार कर लिया है. पुलिस की एफआईआर में भी योगेश राज का नाम है.

पढ़ें- बुलंदशहर हिंसा: हिंसा का शिकार हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह, क्या है अख़लाक़ लिंचिंग केस कनेक्शन?

पुलिस के एफआईआर के अनुसार, योगेश अपने साथियों के साथ भीड़ को भड़का रहा था. जब पुलिस चौकी पर भड़की हुई भीड़ पहुंची तो इंस्पेक्टर समेत अन्य अधिकारियों ने उन्हें शांत कराने की कोशिश की थी. लेकिन हथियारों से लैस भीड़ रुकी नहीं.

एफआईआर के अनुसार, पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की लाइसेंसी पिस्टल, मोबाइल फोन भी भीड़ में शामिल उपद्रवियों ने छीन लिया. इसके अलावा वायरलैस सेट को भी तोड़ दिया. भड़की हिंसा की चपेट में आने से इंस्पेक्टर सुबोध को अपनी जान गंवानी पड़ी. इंस्पेक्टर सुबोध कुमार की मौत गोली लगने से हुई. एक गोली उनकी आंख से ऊपर से होते हुए सर में लगी थी. जिस कारण उनकी मौत हो गई.

पढ़ें- बुलंदशहर हिंसा: रात भर चली छापेमारी के बाद 2 गिरफ्तार, 25 के खिलाफ FIR दर्ज

ध्यान देने की बात है कि सुबोध कुमार का ट्रांसफर 3 साल पहले ही गाज़ियाबाद में हुआ था. इंस्पेक्टर सुबोध दादरी में मोहम्मद अखलाक़ लिंचिंग मामले में मुख्य जांच अधिकारी थे. अख़लाक़ को भी गोकशी के शक में भीड़ ने उसके घर में घुस कर उसे पीट पीट कर मार डाला था.

गौरतलब है कि इंस्पेक्टर सुबोध ने अख़लाक़ के केस में मुख्य जांच अधिकारी की भूमिका निभाते हुए कई सबूत इकट्ठा किये थे. हालांकि इस केस में उन पर आरोप लगा था कि जांच प्रक्रिया के दौरान उन्होंने पारदर्शिता नहीं रखी थी. इन आरोपों के कारण ही उनका ट्रांसफर केस के बीच में ही वाराणसी कर दिया गया था.

First published: 4 December 2018, 11:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी