Home » इंडिया » burhan father told that his son is hero for kashmir freedom
 

बुरहान के पिता ने कहा शहीद हुआ बेटा, घाटी में 18 की मौत, श्रद्धालुओं पर हमले

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 July 2016, 9:32 IST
(एजेंसी)
QUICK PILL

कश्मीर में हिजबुल के मारे गए आतंकी बुरहान वानी के पिता ने कहा है कि उन्हें बुरहान पर गर्व है. मुजफ्फर अहमद वानी ने कहा है कि उन्हें अपने बेटे की शहादत पर फक्र महसूस हो रहा है.

कश्मीर में एक स्कूल के प्रिंसिपल वानी ने कहा कि,‘मुझे पता था कि मेरा बेटा एक दिन नाम रोशन करेगा और आखिरकार उसने शहादत पा ही ली. उसने अपने फर्ज के लिए अपनी जान की कुर्बानी दी है और अल्लाह उसे जन्नत नसीब करेंगे’.

69 सेकेंड में जानें बुरहान वानी की पूरी कहानी

इससे पहले साल 2010 में बुरहान का भाई खालिद वानी भी सेना के साथ मुठभेड़ में मारा गया था. उसका एक और भाई है.

उसका जिक्र करते हुए बुरहान के पिता ने कहा कि अगर उसका तीसरा बेटा भी कश्मीर के जेहाद की राह पर जाना चाहेगा तो वो उसे भी नहीं रोकेंगे.

लश्कर कमांडर की धमकी, भारत से लेंगे बुरहान की मौत का बदला

वहीं, दूसरी ओर आतंकी बुरहान की मौत के बाद मचे घाटी में बवाल की वजह से सुरक्षाबल पूरी तरह से मुस्तैद हैं. लेकिन फिर भी हिंसा में अब तक 15 लोग मारे जा चुके हैं.

हिंसा की वजह से लगभग 5000 अमरनाथ श्रद्धालु अलग-अलग जगहों पर फंसे हुए हैं. फंसे हुए श्रद्धालुओं ने बताया कि शुक्रवार की रात में श्रीनगर रोड पर काजीगुंड-अनंतनाग के पास स्थानीय लोगों ने अमरनाथ श्रद्धालुओं के काफिले पर हमले भी किए.

उमर खालिद ने मारे गए आतंकी बुरहान वानी को चे ग्वेरा से जोड़ा

हमलावरों के द्वारा बसों और कारों के शीशे तोड़े गए. इसके अलावा महिलाओं के साथ भी बदसलूकी की खबरें आ रही हैं. सैकड़ों श्रद्धालुओं ने इस बात की भी शिकायत की है कि रात के समय स्थानीय लोगों ने उनके साथ लूट-पाट की.

अनंतनाग में स्थानीय लोगों के द्वारा पथराव किया गया, जिसमें कुछ श्रद्धालु जख्मी बताए जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि लगभग 2 हजार श्रद्धालु केलामोड रामबन के पास सड़कों पर फंसे हुए हैं.

बुरहान वानी के मारे जाने के बाद अमरनाथ यात्रा रुकी

इन श्रद्धालुओं के मुताबिक सुरक्षाबल न तो उन्हें आगे जाने दे रहे हैं, न ही पीछे लौटने दे रहे हैं. रास्ते में फंसे लोगों को कोई मेडिकल सुविधा भी नहीं मिल पा रही है. श्रद्धालुओं को राशन की सप्लाई न हो पाने के कारण सड़कों पर भूखे-प्यासे रात गुजारनी पड़ रही है.

First published: 11 July 2016, 9:32 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी