Home » इंडिया » By Jahan jhuggi wahan makan scheme Arvind Kejriwal announce to give 5594 flats to the juggi people
 

अरविंद केजरीवाल का तोहफा, दिल्ली में झुग्गी की जगह फ्लैट देने का किया ऐलान, होंगी ये ख़ास सुविधाएं

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 October 2018, 8:04 IST

अरविंद कलेजरीवाल सरकार ने दिल्ली के झुग्गी वालों को फ्लैट देने का ऐलान किया है. दिल्ली सरकार की ‘जहां झुग्गी वहां मकान’ स्कीम के अंतर्गत 5 हजार 594 लोगों को फ्लैट देने का ऐलान किया गया है. इस मामले में शहरी विकास मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि इस योजना के तहत फ्लैट जहांगीरपुरी के भलस्वा, संगम पार्क, करोल बाग के देव नगर और लाजपत नगर के कस्तूरबा निकेतन में बनाए जाएंगे. इन फ्लैट्स को बनाने में कुल 737 करोड़ रुपये की लागत लगे. ये फ्लैट 18 महीने में बन कर तैयात हो जाएंगे.

ख़ास तरीके से बनेंगे ये फ्लैट
सत्येंद्र जैन के मुताबिक इस योजना में बिना किसी देरी के जनवरी 2019 से ही फ्लैट का निर्माण कार्य शुरू कर दिया जाएगा. शहरी विकास मंत्री जैन ने आगे बताया कि इन फ्लैट में दीवारे बनाने के लिए ईंटों जगह आरसीसी का इस्तेमाल किया जाएगा. ऐसा करने से फ्लैट की मेंटेनेन्स में आसानी होगी इसी के साथ फ्लैट की लाइफ भी ज्यादा होती है.

आधुनिक सुविधाओं से होंगे लैस

फ्लैट्स के निर्माण के बारे में जानकारी देते हुए मंत्री ने कहा, ''इस प्रोजेक्ट में एसटीपी, सोलर पैनल, कम्युनिटी हॉल और अन्य सामुदायिक सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी. इस हाउसिंग प्रोजेक्ट के तहत जहांगीरपुरी के भलस्वा में 3780, संगम पार्क में 582, लाजपत नगर के कस्तूरबा निकेतन में 448 और करोलबाग के देव नगर में 784 फ्लैट बनाए जाएंगे.''

ये अहम फैसला मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की अध्यक्षता में दिल्ली अर्बन शेल्टर इंप्रूवमेंट बोर्ड (डीयूएसआईबी) की 24वीं मीटिंग लिया गया. बोर्ड मीटिंग में ये भी सुनिश्चित किया गया कि अब से झुग्गी बस्तियों के अंदर बने टायलेट के मेंटनेंस का काम प्रोफेशनल एजेंसियां देखेंगी. इससे अलावा दिल्ली की सभी झुग्गी बस्तियों में बने जनसुविधा कॉम्पलेक्स की सेवाओं को पहले ही एक जनवरी 2018 से मुफ्त कर दिया गया है.

गौरतलब है कि दिल्ली की विभिन्न झुग्गी बस्तियों में कुल 555 टॉयलेट कॉम्पलेक्स में तकरीबन 18,000 टॉयलेट सीट हैं. अब से इनका देखरेख का जिम्मा प्रोफेशनल एजेंसियों के पास होगा। और उनके इस काम का भुगतान सोशल ऑडिट के बाद किया जाएगा.

चुनावी मौसम में कांग्रेस के पास नहीं है फंड, राहुल गांधी ने नेताओं की चाय-कॉफी पर लगाई लगाम!

इसके अलावा ये भी फैसला लिया गया कि इन बस्तियों में रोशनी के पर्याप्त इंतजाम करवाए जाएंगे. इन कामों के लिए लगभग 100 करोड़ रुपये का इंतजाम किया गया है. ख़ास बात ये है कि इन सभी योजनाओं के पूरा होने के लिए अगले 9 महीने के समय का लक्ष्य रखा गया है.

 

First published: 13 October 2018, 8:04 IST
 
अगली कहानी