Home » इंडिया » CAA Protest: A total of 17 deaths reported across the country so far during demonstrations
 

CAA प्रोटेस्ट: प्रदर्शनों के दौरान देशभर में अब तक कुल 17 लोगों के मौत की खबर

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 December 2019, 9:08 IST

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश में 14 स्थानों पर नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के खिलाफ हो रहे प्रदर्शनों के बाद पुलिस के साथ संघर्ष में कम से कम नौ लोगों की मौत की खबर है. हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार कानून के विरोध में जगह-जगह हुए प्रदर्शनों में अब तक कुल 17 लोगों की मौत हो गई. शुक्रवार को मेरठ में दो, बिजनौर में दो और वाराणसी, फिरोजाबाद, संभल और कानपुर में एक-एक व्यक्त की मौत हुई. गुरुवार को लखनऊ में दो और कर्नाटक के मैंगलोर में तीन लोगों की मौत हो गई.

रिपोर्ट के अनुसार आंदोलन में अब तक असम में पांच मौतें हो चुकी हैं. पुलिस द्वारा लाठीचार्ज के बाद शुक्रवार को वाराणसी में एक आठ वर्षीय लड़के की मौत हो हुई. उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने कहा कि मस्जिदों में शुक्रवार की प्रार्थना से लौट रहे प्रदर्शनकारियों द्वारा भारी पथराव में राज्य भर में कम से कम 50 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

 

उत्तर प्रदेश पुलिस ने शुक्रवार को संभावित परेशानी की आशंका के चलते लगभग 3,305 लोगों को नजरबंद किया और अन्य 200 लोगों को प्रतिबंधात्मक हिरासत में ले लिया. प्रशासन ने कई जगहों पर धारा 144 भी लागू की. ओपी सिंह ने कहा “कई स्थानों पर भीड़ ने हम पर हमला किय, जिसके दौरान लोगों को चोटें लग सकती हैं. यह जांच का विषय है.” रिपोर्ट के अनुसार कानपुर के मुख्य चिकित्सा अधिकारी अशोक शुक्ला ने कहा कि 13 घायलों में से नौ को गोली लगी है.

कानपुर और लखनऊ में शुक्रवार दोपहर की प्रार्थना के बाद विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ. पुलिस ने कहा कि कुछ अन्य स्थानों पर भी जुलूस दोपहर में हिंसक हो गए. मेरठ में शाम 5 बजे के आसपास आखिरी झड़प की सूचना मिली थी. उस झड़प में दो प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई और कई घायल हो गए. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा समीक्षा बैठक के बाद सरकार ने राज्य में सभी संवेदनशील क्षेत्रों में केंद्रीय अर्धसैनिक बल और रैपिड एक्शन फोर्स की तैनाती की है. पूरे उत्तर प्रदेश में सभी शैक्षणिक संस्थान शनिवार 21 दिसंबर को बंद रहेंगे.

CAA Protest: गाजियाबाद में स्कूल रहेंगे बंद, यूपी के 14 जिलों में बंद की गई इंटरनेट सेवा

First published: 21 December 2019, 9:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी