Home » इंडिया » CAA प्रोटेस्ट: दिल्ली के सीलमपुर में आगजनी, पथराव के बाद पुलिस करना पड़ा आंसू गैस का इस्तेमाल
 

CAA प्रोटेस्ट: दिल्ली के सीलमपुर में आगजनी, पथराव के बाद पुलिस करना पड़ा आंसू गैस का इस्तेमाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 December 2019, 17:54 IST

नागरिकता अधिनियम के खिलाफ मंगलवार को पूर्वोत्तर दिल्ली के सीलमपुर इलाके में हिंसक प्रदर्शन हुआ. प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया. पुलिस भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले का सहारा लेना पड़ा. इस दौरन आस-पास के पांच मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश और निकास द्वार बंद करने पड़े. इनमें सीलमपुर, गोकुलपुरी, वेलकम, जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशन शामिल हैं. दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (DMRC) ने ट्वीट किया '' इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रुकेंगी.

दिल्ली पुलिस पीआरओ, एमएस रंधावा ने कहा सीलमपुर में स्थिति नियंत्रण में है. हम स्थिति पर नजर रख रहे हैं. हम उन इलाकों से सीसीटीवी फुटेज ले रहे हैं जहां कोई घटना हो रही है. वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जा रही है. इस तरह की घटनाओं में शामिल लोगों में से किसी को भी नहीं बख्शा जाएगा.

इससे पहले दिन में सुप्रीम कोर्ट ने जामिया मिलिया इस्लामिया और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में नए नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों पर पुलिस एक्शन के आरोपों की सुनवाई के बाद कहा कि पहले उच्च न्यायालयों से संपर्क किया जाना चाहिए था. भारत के मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने कहा "हम तथ्यों को जानने में समय नहीं लगाना चाहते, आपको हाईकोर्ट में जाना चाहिए."

 

शीर्ष अदालत ने कहा कि अगर कोई अपराध करता है तो पुलिस गिरफ्तारी के लिए स्वतंत्र है. घायल छात्रों को चिकित्सा सहायता मिलनी चाहिए. यह भी कहा कि विभिन्न स्थानों पर घटनाएं हुई हैं, इन मामलों में एक जांच का आदेश नहीं दिया जा सकता है. कोर्ट ने यह भी पूछा कि विरोध प्रदर्शन के दौरान बसों को कैसे जलाया गया. CJI बोबडे ने केंद्र से ब्योरा देने को कहा कि गिरफ्तारी से पहले प्रदर्शनकारियों को नोटिस क्यों नहीं दिया गया.

CAA प्रोटेस्ट: जामिया और AMU छात्रों के समर्थन में आए अमेरिकी विश्वविद्यालय के छात्र

First published: 17 December 2019, 17:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी