Home » इंडिया » Cabinet okays new health policy. Here's what its all about
 

नई स्वास्थ्य नीति मंजूर, सबको स्वास्थ्य का अधिकार बनेगा कानून

विशाख उन्नीकृष्णन | Updated on: 17 March 2017, 7:40 IST

15 मार्च को केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति को मंजूरी दे दी. इसका उद्देश्य लोगों को वाजिब दरों पर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाना है. साथ ही महंगाई भत्ता बढ़ा दिया गया और महंगाई में राहत देने की बात भी कही गई. सरकार के ये फैसले नए वर्ष से लागू होंगे.

सरकार के इस फैसले से केंद्र सरकार के लाखों कर्मचारियों और पेंशनरों को लाभ मिलेगा. स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, यह यह नीति फरवरी में ही लाई जानी थी लेकिन इसमें थोड़ी देर हो गई.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति की पूरी जानकारी अभी सार्वजनिक नहीं की गई. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जे.पी. नड्डा इन नीतियों की घोषणा करेंगे. सबके लिए स्वास्थ्य सरकार ने पूर्व में बताया था कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति का उद्देश्य सबको एकसमान स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाना है.

साथ ही फंड बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य सेवाओं पर कर भी लगाया जाएगा. स्वास्थ्य राज्य सरकार से जुड़ा मसला है. इसका आशय है कि आप जिस राज्य में रहते हैं, वहां की राज्य सरकार की नीति आप पर लागू होगी. नई राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति सभी के लिए आधारभूत स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवाने का रास्ता साफ करेगी.

यह नई स्वास्थ्य नीति 15 साल बाद बनाई गई है. इससे पहले 2002 में स्वास्थ्य नीति बनाई गई थी. इस नीति का उद्देश्य मूलतः असंक्रामक रोगों से निपटना, प्राथमिक स्तर पर स्वास्थ्य केंद्रों में सुधार करना और टीकाकरण कार्यक्रमों में सुधार करना है.

 

नई स्वास्थ्य नीति के प्रमुख बिंदु

सार्वजनिक स्वास्थ्य संबंधी खर्च में बढोत्तरीः

नई नीति के अनुसार, सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं पर खर्च जीडीपी के 2 प्रतिशत से बढ़ा कर 4-5 प्रतिशत करने का प्रस्ताव है.

नया मॉडलः

विधेयक में स्वास्थ्य सेवाओं की जरूरतें पूरी करने के लिए पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप(पीपीपी)मॉडल अपनाने की बात कही गई है.

नया स्वास्थ्य कानूनः

शिक्षा के अधिकार की तरह ही नागरिकों के लिए वाजिब दरों पर आवश्यक स्वास्थ्य सेवा अधिकार कानून लाया जाएगा.

मुख्य ध्येय:

नई स्वास्थ्य नीति का मुख्य ध्येय बढ़ती गैर संक्रामक बीमरियों(एनसीडी) से निजात पाना है. यह नीति एंटीबायटिक दवाओं पर भी प्रतिबंध लगवाएगी और साथ ही इंसान और जानवरों को एंटीबायटिक दवाओं से होने वाले नुकसान की समस्या से निपटने का भी प्रयास करेगी.

स्वास्थ्य अनुसंधानः

नई स्वास्थ्य नीति के तहत इस क्षेत्र में अनुसंधान को प्रोत्साहन दिया जाएगा

First published: 17 March 2017, 7:40 IST
 
विशाख उन्नीकृष्णन @sparksofvishdom

A graduate of the Asian College of Journalism, Vishakh tracks stories on public policy, environment and culture. Previously at Mint, he enjoys bringing in a touch of humour to the darkest of times and hardest of stories. One word self-description: Quipster

पिछली कहानी
अगली कहानी