Home » इंडिया » Can't deport Vijay Mallya over invalid passport, consider requesting mutual legal assistance or extradition,UK tells India
 

ब्रिटेन का भारत को जवाब, माल्या को नहीं करेंगे प्रत्यर्पित

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:49 IST

विजय माल्या को प्रत्यर्पित कराने की भारत की कोशिशों को झटका लगा है. ब्रिटेन ने भारतीय बैंकों के 9 हजार करोड़ के कर्जदार माल्या को भारत को प्रत्यर्पित करने से इनकार कर दिया है. ब्रिटिश सरकार ने ये भी कहा है कि वो माल्या के प्रर्त्यपण पर फिर से विचार करे.

ब्रिटेन की डेविड कैमरन सरकार ने ये भी कहा है कि वो माल्या पर लगे आरोपों पर गंभीर है और जांच के दौरान भारत की मदद करना चाहती है.

बुधवार को ब्रिटिश सरकार के फैसले की जानकारी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने दी. स्वरूप के मुताबिक, ब्रिटेन ने भारत सरकार से साझा कानूनी मदद या फिर प्रत्यर्पण याचिका पर विचार करने की अपील की है.

इमीग्रेशन कानून का हवाला


स्वरूप ने कहा, "ब्रिटेन की सरकार ने हमें बताया है कि वो इमीग्रेशन लॉ (1971) के मुताबिक तब तक ब्रिटेन में रहने से माल्या को नहीं रोक सकती, जब तक उनके पास वैध पासपोर्ट और वीजा है."

इसके साथ ही ब्रिटेन सरकार ने कहा है कि उन्हें माल्या पर लगाए गए आरोपों की गंभीरता की जानकारी है और वो इस मामले में भारत की मदद के लिए तैयार है. इस लिहाज से जब तक माल्या का पासपोर्ट वैध रहता है, तब तक वो ब्रिटेन में रह सकते हैं.

MALLYA MEA


दो मार्च को छोड़ा था देश


माल्या ने दो मार्च को देश छोड़ा था. इसके बाद भारत सरकार ने उनका पासपोर्ट रद्द कर दिया था. लेकिन तकनीकी तौर पर इसका मतलब साफ है कि वो जब ब्रिटेन पहुंचे तो उनका पासपोर्ट वैध था.

भारत ने पिछले महीने ब्रिटिश हाई कमीशन से गुजारिश की थी कि माल्या को भारत डिपोर्ट किया जाए.

माल्या को अलग-अलग अदालतों से समन मिल चुके हैं. दो अदालतों ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया है. साथ ही सरकार ने माल्या के राजनयिक पासपोर्ट को रद्द कर दिया है. 

बैंकों का 9 हजार करोड़ बकाया


माल्या 2 मार्च को ही दिल्ली से लंदन चले गए थे. 900 करोड़ की कर्ज धोखाधड़ी के मामले में प्रवर्तन निदेशालय उनके खिलाफ जांच कर रहा है. वहीं एसबीआई समेत 17 बैंकों के कंसोर्टियम ने सुप्रीम कोर्ट में भी माल्या के खिलाफ याचिका दाखिल की हुई है.

सुप्रीम कोर्ट ने माल्या से विदेश में भी मौजूद संपत्ति का ब्योरा देने को कहा है. जिससे बैंक रिकवरी का केस आगे बढ़ा सकें. हालांकि माल्या दो बार बैंकों को प्रस्ताव दे चुके हैं.

विजय माल्या पर आरोप है कि उन्होंने बैंकों से मिले कर्ज का इस्तेमाल निजी संपत्तियों को खरीदने में किया. वे डिफॉल्टर घोषित किए जा चुके हैं. वहीं किंगफिशर एयरलाइंस अक्टूबर 2012 में बंद हो चुकी है.

First published: 11 May 2016, 10:36 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी