Home » इंडिया » Captured LeT terrorist Bahadur Ali confessed that he was trained by Pakistani army
 

कश्मीर में पकड़े गए आतंकी बहादुर अली ने खोले राज, कहा पाक सेना ने दी थी ट्रेनिंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 August 2016, 15:45 IST
(एएनआई)

हाल ही में जम्मू-कश्मीर के नौगाम में मुठभेड़ के दौरान पकड़े गए लश्कर आतंकी बहादुर अली ने पाकिस्तान को एक बार फिर बेनकाब कर दिया है. कैमरे पर बहादुर अली ने कबूल किया है कि उसको भारत में घुसपैठ करने से पहले पाकिस्तानी सेना ने ट्रेनिंग दी थी.

पाकिस्तानी आतंकवादी बहादुर अली को 25 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था. पाकिस्तानी आतंकी ने राज खोलते हुए बताया कि पाकिस्तान में 30 से 50 आतंकियों को तैयार रखा गया है, ट्रेनिंग कैंपों में उन्हें ट्रेनिंग दी जाती है.

बहादुर अली ने बताया है कि 11-12 जून की रात को वह भारत में दाखिल हुआ था. उसे पाकिस्तानी फौज ने ट्रेनिंग देने के बाद भारत में हमले के लिए भेजा था. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के आईजी संजीव कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कई चौंकाने वाले खुलासे किए.

एनआईए ने जारी किया वीडियो

एनआईए ने आतंकी बहादुर अली का वीडियो जारी करते हुए बताया कि जमात-उद-दावा ने 2008-09 में आतंकी बहादुर अली को भर्ती किया था. उसे विशेष तरह की मिलिट्री ट्रेनिंग दी गई थी.

एनआईए के आईजी ने बताया कि बहादुर अली को पाकिस्तान में बैठे आकाओं से निर्देश मिल रहे थे. ये आदेश पाकिस्तान सिक्योरिटी फोर्सेज की मदद से मिल रहे थे.

एनआईए के मुताबिक उसके पास से बिना सिम कार्ड वाले एसएमसएस वाला फोन मिला. बहादुर अली ने इस तकनीक का काफी इस्तेमाल किया. बिना पाकिस्तानी सेना की मदद के ऐसा ऑपरेशन नामुमकिन है. 

कश्मीर के हालात का फायदा उठाने के निर्देश

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान एनआईए ने बताया, "हमने सभी तरह के सबूत इकट्ठा किए हैं. बहादुर अली को कश्मीर के वर्तमान हालात का फायदा उठाने के निर्देश मिले थे. उसके पास से जो चीजें बरामद हुई हैं, उससे पता चलता है कि काफी उच्च प्रशिक्षित लोगों से उसे ट्रेनिंग मिली थी."

एनआईए ने साथ ही बताया कि भविष्य में उससे पूछताछ से इस बात का भी पता चलेगा कि कश्मीर में वर्तमान तनाव के हालात में लश्कर-ए-तैयबा की क्या भूमिका है? 

'पाक सेना के अफसर ट्रेनिंग में पहुंचे'

एनआईए के आईजी संजीव कुमार ने बताया, "बहादुर अली लश्कर द्वारा आयोजित सभी तीन ट्रेनिंग प्रक्रिया के दौर से गुजरा था. बहादुर ने बताया है कि अफगानिस्तान और पाकिस्तान के अलग-अलग हिस्सों में चल रहे ट्रेनिंग कैंपों में 30 से 50 प्रशिक्षित आतंकी मौजूद हैं."

एनआईए के आईजी का कहना है, "बहादुर अली ने बताया है कि वहां सादे कपड़ों में सेना के कुछ अफसरों ने उनकी तैयारी की एक चेकलिस्ट के जरिए जांच की थी. बहादुर अली ने 11 और 12 जून के बीच लश्कर के दो आतंकियों के साथ भारतीय इलाके में घुसपैठ की थी."

एनआईए का कहना है कि बहादुर अली का साथी हैदर जब नियंत्रण रेखा के पास बाड़ के के पास पहुंच रहा था, इस दौरान वह लगातार किसी शख्स के संपर्क में था.

First published: 10 August 2016, 15:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी