Home » इंडिया » Rakesh Asthana's appointment as in-charge director of CBI in the dock
 

जानिए नए CBI डायरेक्टर की रेस में सबसे आगे कौन?

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 February 2017, 5:44 IST

2 दिसंबर 2016 से देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक का पद खाली है. केंद्र सरकार ने 1984 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना को फिलहाल बतौर इंचार्ज डायरेक्टर बनाया है.  

अब स्थाई डायरेक्टर के रूप में किसकी नियुक्ति होगी यह लाख टके का सवाल है, क्योंकि राकेश अस्थाना को इंचार्ज डायरेक्टर बनाने पर सवाल उठ चुके हैं. उनको प्रभार सौंपने से कुछ घंटे पहले ही सीबीआई में नंबर 2 रहे स्पेशल डायरेक्टर रूपक कुमार दत्ता को गृह मंत्रालय भेज दिया गया था. 

विवाद की एक बड़ी वजह इसे भी माना जा रहा है. वरिष्ठता क्रम में राकेश अस्थाना, आर के दत्ता से नीचे आते हैं. सीबीआई के नए निदेशक का चयन कॉलेजिएम करता है. जिसमें प्रधानमंत्री, नेता प्रतिपक्ष और सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस शामिल हैं.  लोकपाल कानून लागू होने के बाद कॉलेजिएम प्रक्रिया से जांच एजेंसी के डायरेक्टर की नियुक्ति होती है. एक नज़र रेस में आगे चल रहे नामों पर:

गुजरात कैडर के IPS राकेश अस्थाना को सीबीआई का इंचार्ज डायरेक्टर बनाने पर सवाल उठे हैं.

महाराष्ट्र कैडर के सतीश माथुर का दावा मजबूत

नए डायरेक्टर को लेकर कई नाम चर्चा में हैं, लेकिन माना जा रहा है कि सतीश माथुर का दावा सबसे मजबूत है. सतीश माथुर महाराष्ट्र कैडर के 1981 बैच के आईपीएस अफसर हैं. 

यह भी माना जा रहा है कि माथुर का नाम तकरीबन तय हो चुका है. वहीं माथुर के अलावा तमिलनाडु कैडर की आईपीएस अर्चना रामसुंदरम और महाराष्ट्र कैडर की आईपीएस मीरा चंद्र बोरवणकर भी इस रेस में आगे चल रही हैं. 

दिल्ली के पुलिस कमिश्नर भी रेस में

एक और नाम जो काफी चर्चा में है वह है दिल्ली के पुलिस कमिश्नर आलोक वर्मा का. 1979 बैच के आईपीएस अधिकारी भी इस लिस्ट के दावेदार हैं. 

इन सब नामों के अलावा बिहार कैडर के 1979 बैच के आईपीएस कृष्णा चौधरी भी सीबीआई डायरेक्टर की रेस में हैं. अभी वह आईटीबीपी के महानिदेशक की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं. 

दिल्ली के पुलिस कमिश्नर आलोक वर्मा भी नए सीबीआई डायरेक्टर की रेस में शामिल हैं.

सुप्रीम कोर्ट ने भी उठाए थे सवाल

सीबीआई के इंचार्ज डायरेक्टर राकेश अस्थाना के चयन के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक एनजीओ ने याचिका दाखिल की है. मशहूर वकील प्रशांत भूषण इस एनजीओ की तरफ से पैरवी कर रहे हैं. सुप्रीम कोर्ट में 17 जनवरी को इस मामले की सुनवाई लिस्टेड है.

अस्थाना पर सुप्रीम कोर्ट भी सवाल उठा चुका है. दो जजों की बेंच ने भी आरके दत्ता को दरकिनार करने पर केंद्र सरकार से सवाल पूछा था. दरअसल सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर आरके दत्ता 2जी और कोयला घोटाले की भी जांच कर रहे थे. सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में इन मामलों की जांच चल रही है. 

First published: 26 December 2016, 2:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी