Home » इंडिया » CBI Dispute: Alok Verma resigns as DG fire services after select panel transfer him
 

CBI डायरेक्टर पद से दोबारा हटाए जाने पर आलोक वर्मा ने फायर ब्रिगेड के DG पद से भी छोड़ी नौकरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 January 2019, 16:47 IST

CBI के पूर्व डायरेक्टर आलोक वर्मा ने अपनी नौकरी छोड़ दी है. प्रधानमंत्री मोदी की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने उन्हें सीबीआई चीफ के पद से हटा दिया था और उनका तबादला बतौर डीजी फायर सर्विसेज एंड होमगार्ड कर दिया गया था. इसके बाद ही आलोक वर्मा ने डीजी फायर सर्विसेज एंड होमगार्ड का पद संभालने से इनकार कर दिया था.

आलोक वर्मा ने अपना इस्तीफा DoPT विभाग को सौंप दिया है. DoPT सरकार का विभाग है जहां से सरकारी मशीनरी में टॉप ऑफिसर्स की नियुक्ति होती है. बता दें कि जब सीबीआई के डायरेक्टर की नियुक्ति करने वाली चयन समिति की बैठक हुई थी तो इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस ए के सीकरी और कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल थे.

पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली एक हाई पावर सेलेक्शन कमेटी द्वारा हटाए जाने पर आलोक वर्मा ने अपनी चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने कहा कि झूठे, अप्रमाणित और बेहद हल्के आरोपों को आधार बनाकर उनका ट्रांसफर किया गया. उन्होंने कहा कि ये आरोप उस एक शख्स ने लगाए हैं, जो उनसे द्वेष रखता है.

पढ़ें-  महागठबंधन में शामिल होने के लिए 6 सीटें मांग रही RLD, माया-अखिलेश देना चाहते हैं इतनी सीट

वहीं आलोक वर्मा को सीबीआई के निदेशक पद से हटाए जाने को लेकर राहुल गांधी समेत कई नेताओं ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है. दरअसल, सेलेक्शन कमेटी की बैठक में 2:1 से आलोक वर्मा को हटाने का फ़ैसला लिया गया. पैनल में मौजूद पीएम मोदी और चीफ़ जस्टिस के प्रतिनिधि के तौर पर मौजूद जस्टिस एके सीकरी वर्मा को हटाने के पक्ष में थे. जबकि लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे आलोक वर्मा को हटाने के विरोध में थे.

First published: 11 January 2019, 16:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी