Home » इंडिया » CBI probe on in Hathras Gang Rape Case will also investigate related fire like sedition
 

हाथरस केस की जांच अब सीबीआई के हवाले, योगी सरकार की सिफारिश के बाद लिया गया फैसला

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 October 2020, 6:56 IST

CBI probe on in Hathras Gang Rape Case: उत्तर प्रदेश (UP) के हाथरस (Hathras) में हुई गैंगरेप (Gang Rape) और हत्या मामले की जांच अब सीबीआई (CBI) को सौंप दी गई है. इस मामले की सिफारिश योगी सरकार (Yogi Government) ने केंद्र को भेजी थी. अब सीबीआई (CBI) की गाजियाबाद यूनिट उन सभी मामलों में केस को दोबारा रजिस्टर्ड करेगी, जिन्हें यूपी पुलिस ने दर्ज किया था. इसके अलावा हाथरस में हुए उग्र धरना प्रदर्शन के बाद यूपी पुलिस द्वारा दर्ज राजद्रोह (sedition) और राज्य सरकार के खिलाफ साजिश रचने जैसे सभी मामलों की भी जांच भी सीबीआई के हवाले कर दी गई है.

केंद्र सरकार की डीओपीटी विभाग के नोटिफिकेशन के बाद सीबीआई ने हाथरस केस को टेकओवर किया है. अब जल्द ही सीबीआई हाथरस केस की जांच शुरू करेगी. अधिकारियों केे मुताबिक , जैसे ही केस रजिस्टर्ड होगा, सीबीआई की टीम फरेंसिक जांच दल के साथ हाथरस के लिए रवाना हो जाएगी. बता देें कि अभी तक हाथरस केस की जांच एएसआईटी (SIT) कर रही थी. हाल ही में इस जांच को पूरा करने के लिए यूपी सरकार ने 10 दिनों का और सममय दिया था. जिससे पूरा सच साममने आ सके. माना जा रहा था कि इस मामले में लगातार बढ़ते पेच की वजह से सरकार ने ये फैसला लिया, लेकिन अब ये मामला सीबीआई के पास पहुंच गया है.


राहुल गांधी का बयान- जवानों को नॉन-बुलेट प्रूफ ट्रक, PM मोदी के लिए 8400 करोड़ का हवाई जहाज

पीड़िता की मौत के बाद जैसी ही शव रात में उसके गांव पहुंचा पुलिस ने रात में ही उसका अंतिम संस्कार कर दिया. पीड़िता के परिवार का आरोप है कि स्थानीय पुलिस ने जल्दबाजी में अंतिम संस्कार कराया. हालांकि, स्थानीय पुलिस का दावा है कि परिवार की इच्छा के अनुरूप अंतिम संस्कार किया गया. लेकिन पीड़िता के दाह संस्कार के समय एक और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. इस वायरल वीडियो में साफ दिख रहा है किस तरह पुलिस व प्रशासन के लोगों ने लाश जलाई. पीड़िता के शव को जल्दी जलाने के लिए ज्वलनशील पदार्थ का भी इस्तेमाल किया गया.

जम्मू-कश्मीर: किशनगंगा नदी के रास्ते हथियारों का जखीरा लाने की फिराक में थे पाकिस्तानी आंतकी

वीडियो में दिख रहा है कि केन से चिता पर लिक्विड का छिड़काव किया जा रहा है. इस वीडियो में वर्तमान एसएचओ लक्ष्मण सिंह भी शव जलाते दिखाई दे रहे हैं. कोतवाली चंदपा के और भी कई पुलिसकर्मी वीडियो में कैद हुए हैं. इस घटना को लेकर काफी विवाद हुआ. विपक्षी पार्टियों ने योगी सरकार को निशाने पर लिया और देशभर में प्रदर्शन हुए. इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सीबीआई जांच की घोषणा की. हाथरस मामले में एसआईटी की जांच के आधार पर एसपी समेत कई पुलिस अधिकारियों को निलंबित किया गया.

शर्मनाक: पंचायत अध्यक्ष की बैठक में सबको मिली कुर्सी, लेकिन दलित महिला को जमीन पर बिठाया

First published: 11 October 2020, 6:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी