Home » इंडिया » CBI raids 20 of Bhupinder Singh Hooda's and his close aide's residence and offices in Rohtak, Gurugram, Panchkula, Chandigarh & Delhi
 

मानेसर लैंड डील में हरियाणा के पूर्व सीएम हुड्डा के ठिकानों पर सीबीआई छापे

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 September 2016, 10:35 IST
(फाइल फोटो)

मानेसर लैंड डील मामले में हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हु़ड्डा पर सीबीआई ने शिकंजा कस दिया है. सीबीआई की एंटी करप्शन यूनिट ने हुड्डा के घर सहित 20 ठिकानों पर छापेमारी की है.

पूर्व सीएम हुड्डा के रोहतक स्थित आवास के साथ ही गुड़गांव में तीन, दिल्ली में नौ, चंडीगढ़ में तीन और  पंचकूला के तीन ठिकाने शामिल हैं. इस मामले में हुड्डा के अलावा उनके करीबी छतर सिंह, एमएल दयाल और एसबी ढिल्लन के ठिकानों पर भी छापे मारे गए हैं.

900 एकड़ जमीन के अधिग्रहण का मामला

पिछले साल मानेसर लैंड डील केस की जांच सीबीआई को दी गई थी. मानेसर में कांग्रेस सरकार ने 900 एकड़ से ज्यादा जमीन का अधिग्रहण करके डीएलएफ और कुछ अन्य बिल्डरों को दिया था.

राज्य में बीजेपी की सरकार के सत्तारूढ़ होने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश की थी. कांग्रेस की तत्कालीन हुड्डा सरकार के कार्यकाल के दौरान ज़मीन का अधिग्रहण कर उसे बिल्डर्स के सुपुर्द किया गया था. 

1500 करोड़ की गड़बड़ी का आरोप

आरोप है कि राज्य सरकार ने इस बेशकीमती ज़मीन को बिल्डर्स को औने-पौने दाम पर बेच दिया था. हुड्डा सरकार पर इस अधिग्रहण के मामले में ज़मीन के वास्तविक मालिकों को 1500 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचाने का भी आरोप है.

गौरतलब है कि 17 सितंबर को राज्य सरकार की सिफारिश के बाद सीबीआई ने हरियाणा सरकार के अधिकारियों और प्राइवेट बिल्डर्स के खिलाफ ज़मीन अधिग्रहण में कथित अनियमितता को लेकर मामला दर्ज़ किया था.

बिल्डर्स-अफसरों में साठगांठ का आरोप

आरोप है कि हरियाणा सरकार के अफसर और प्राइवेट बिल्डर्स के बीच गठजोड़ रहा. हरियाणा सरकार ने आईएमटी मानेसर की स्थापना के लिए 912 एकड़ जमीन का अधिग्रहण करने के लिए मानेसर, नौरंगपुर और लखनौला के ग्रामीणों को सेक्शन 4, 6 और 9 के नोटिस थमा दिए थे.

निजी बिल्डरों ने किसानों को अधिग्रहण की धमकी देकर जमीनों के सौदे शुरू कर दिए और उनकी जमीन कम कीमतों पर खरीद ली.

इसी दौरान डायरेक्टर इंडस्ट्रीज ने 24 अगस्त 2007 को सरकारी नियमों का उल्लंघन करते हुए बिल्डर द्वारा खरीदी गई जमीन को अधिग्रहण के जरिए रिलीज कर दिया. जमीन के वास्तविक मालिकों के बजाए यह जमीन बिल्डर, उनकी कंपनी या फिर एजेंट को रिलीज की गई.

First published: 3 September 2016, 10:35 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी