Home » इंडिया » Prakash Javdekar said that govt will reintroduce CBSE 10th board exam from academic year 2017-18
 

2018 में फिर से शुरू होगी CBSE 10वीं की बोर्ड परीक्षा, ग्रेडिंग खत्म

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 November 2016, 9:36 IST

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड यानी सीबीएसई की दसवीं परीक्षा में ग्रेडिंग सिस्टम खत्म होने जा रहा है. अगले शैक्षणिक सत्र यानी 2017-18 में सीबीएसई दसवीं की एक बार फिर से बोर्ड परीक्षा होगी.

यूपीए सरकार के कार्यकाल में साल 2010 में ग्रेडिंग सिस्टम शुरू किया गया था. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने दसवीं बोर्ड परीक्षा फिर से शुरू करने का एलान किया है. फिलहाल 2017 में ग्रेडिंग सिस्टम लागू रहेगा, लेकिन 2018 में दसवीं की बोर्ड परीक्षा होगी.

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एलान से पहले ही ऐसे कयास लगाए जा रहे थे. स्मृति ईरानी से कार्यभार संभालने के बाद प्रकाश जावड़ेकर ने दसवीं की परीक्षा से ग्रेडिंग सिस्टम खत्म करने के संकेत दिए थे.

यूपीए कार्यकाल में खत्म हुआ था बोर्ड

यूपीए के कार्यकाल में तत्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने 2010 में दसवीं की बोर्ड परीक्षाओं को खत्म कर दिया था. इस कदम का बड़े पैमाने पर स्वागत हुआ था.

ग्रेडिंग सिस्टम को लाने के पीछे तर्क यह था कि इससे छात्रों पर मानसिक दबाव कम होगा. हालांकि बहुत से अभिभावक मानते हैं कि बोर्ड परीक्षाएं नहीं होने से पढ़ाई के स्तर में गिरावट देखी जा रही है. मानव संसाधन विकास मंत्रालय का मानना है कि इससे शिक्षा का स्तर बेहतर होगा.

गौर करने वाली बात यह है कि दिल्ली समेत ज्यादातर राज्यों ने दसवीं की बोर्ड परीक्षा को अनिवार्य करने की मांग की थी.

क्या है ग्रेडिंग सिस्टम?

1. शैक्षणिक सत्र के दौरान बच्चों का प्रदर्शन ग्रेडिंग सिस्टम का आधार होता है.

2. ग्रेडिंग सिस्टम में किसी भी छात्र को फेल नहीं किया जाता है.

3. पिछले सात साल से सीबीएसई में केवल बारहवीं की बोर्ड परीक्षा होती है.

4. 12वीं बोर्ड में बच्चों को नंबर के आधार पर पास-फेल किया जाता है. 

सोशल मीडिया पर भी सरकार के इस फैसले के बाद प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो गया है. ट्विटर पर अभिवन गौतम ने लिखा, "सीबीएसई दसवीं में बोर्ड को दोबारा शुरू करना सरकार का स्वागत योग्य कदम है."

अनिंदा सरकार ने ट्वीट किया, "मैंने सीबीएसई बोर्ड से स्कूली पढ़ाई की है. केंद्रीय विद्यालय संगठन से मैंने अपनी पढ़ाई पूरी की. सीबीएसई दुनिया में सबसे अच्छा बोर्ड है और केंद्रीय विद्यालय सर्वश्रेष्ठ."

अरविंद बेलेवर ने सरकार के इस फैसले की आलोचना की है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा, "सीबीएसई दसवीं में ग्रेडिंग सिस्टम बेस्ट है. तकरीबन 100 फीसदी मार्किंग की अनिवार्यता से छात्रों को छुटकारा मिला हुआ था."

First published: 15 November 2016, 9:36 IST
 
अगली कहानी