Home » इंडिया » Ajit Doval said that 100 more terrorists trying to infiltrate along LoC
 

मोदी के साथ बैठक में बोले अजीत डोभाल- 100 और आतंकी एलओसी पर घुसपैठ को तैयार

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 October 2016, 15:59 IST
(पीएमओ ट्विटर)

बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में कैबिनेट कमिटी ऑन सिक्योरिटी (सीसीएस) की बैठक हुई. इस दौरान देश के ताजा सुरक्षा हालात के साथ ही नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा की स्थितियों पर भी चर्चा हुई.

सूत्रों के मुताबिक बैठक में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने पीएम मोदी को एलओसी के पास आतंकियों के ताजा जमावड़े की जानकारी दी. सुरक्षा मामलों की कैबिनेट समिति की बैठक के दौरान एनएसए अजीत डोभाल ने कई अहम जानकारियां साझा कीं.

सूत्रों के मुताबिक बैठक में मौजूद गृह, विदेश और रक्षा मंत्रियों के इस समूह को बताया गया कि भारत के सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तानी सेना एलओसी पास बने आतंकियों के कैंपों की सुरक्षा में जुट गई है. एनएसए ने बैठक के दौरान बताया कि ऐसे दर्जन भर लॉन्च पैड्स की जानकारी मिली है.

सर्जिकल हमले के सबूत देने पर मंथन

सूत्रों के मुताबिक सीसीएस बैठक में किसी भी तरह के हालात से निपटने पर चर्चा हुई. हालांकि सरकार ने पहले से तय कर रखा है कि सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत नहीं जारी किए जाएंगे. खबर है कि इससे पहले सेना की तरफ से कहा गया था कि हमले के सबूत देने पर उसे कोई आपत्ति नहीं है.

दरअसल मोदी सरकार का मानना है कि सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में सेना की ओर से दी गई जानकारी ही पर्याप्त है. अगर कोई उस पर भरोसा नहीं करना चाहता तो यह उसकी समस्या है. इससे पहले मोदी सरकार के वरिष्ठ मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा था कि सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर गैरजिम्मेदाराना बयान दे रहे लोगों को जवाब देने की कतई जरूरत नहीं है.

आतंकियों के नए लॉन्च पैड तैयार 

बताया जा रहा है कि बैठक के दौरान नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा के साथ-साथ आंतरिक सुरक्षा के हालात की भी जानकारी दी गई. सूत्रों के मुताबिक अजीत डोभाल ने बैठक के दौरान बताया कि खुफिया एजेंसियों ने 100 से ज्यादा आतंकियों को चिह्नित किया है.

साथ ही डोभाल ने इस बात पर चिंता जताई कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद आतंकी अब नए लॉन्च पैड तैयार कर रहे हैं. इससे पहले अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी रिपोर्ट में सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में कई खुलासे किए थे.

अंग्रेजी अखबार ने नियंत्रण रेखा के पार पांच चश्मदीदों से बातचीत के आधार पर दावा किया था कि 29 सितंबर को सुबह ट्रक में भरकर आतंकियों के शव ले जाए जा रहे थे. इसके अलावा रिपोर्ट में चश्मदीदों के हवाले से भारी गोलीबारी की आवाज सुनने का भी दावा किया गया था.

First published: 5 October 2016, 15:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी