Home » इंडिया » Central Goverment ask IIT-Delhi to draft a National perspective plan to fill vacant seats
 

देश में इंजीनियरिंग की 50% खाली सीटें भरने के लिए केंद्र सरकार उठाएगी ये कदम

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 June 2018, 17:22 IST

ऑल इंडियन काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (AICTE) के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में मौजूद 3,291 इंजीनियरिंग कॉलेजों में साल 2016-17 में 50% से अधिक सीटें खाली रह गईं.

बता दें कि देशभर में मौजूद इन 3,291 इंजीनियरिंग कॉलेजों में बैचलर ऑफ इंजीनियरिंग (बीई) और बैचलर ऑफ टैक्नोलॉजी (बीटेक) को मिलाकर कुल 15.5 लाख सीटें हैं. वहीं साल 2015-16 में भी 14.76 लाख इंजीनियरिंग सीटों खाली रह गईं थी.

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इस स्थिति से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) - दिल्ली को आने वाले दशक के लिए एक व्यापक योजना तैयार करने के लिए कहा है. जिसमें तकनीकी शिक्षा में मौजूदा आवश्यकताओं का पता लगाएगा, और उससे मेल खाने के उपायों का सुझाव देगा.

ये भी पढ़ें-अटलांटिक में उठा तूफ़ान भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमतें पहुंचा सकता है आसमान पर

वहीं इस प्रयास में, आईआईटी-दिल्ली प्रत्येक राज्य में आईआईटी, आईआईएम और एनआईटी के साथ समन्वय करेगा, और चार महीने के भीतर शैक्षणिक सुधार पर राष्ट्रीय नीति तैयार करेगा. इसके अलावा यह उद्योग में नौकरी की आवश्यकताओं का भी विश्लेषण करेगा, और निकट भविष्य में तकनीकी पाठ्यक्रमों की मांग की को लेकर भी काम करेगा.

First published: 27 June 2018, 17:23 IST
 
अगली कहानी