Home » इंडिया » central government briinging an ordinance which will make borrowing from friends tough
 

दोस्तों से पैसे उधार लेना अब पड़ सकता है भारी, संपत्ति जब्त होने के साथ जा सकते हैं जेल

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 February 2019, 12:17 IST

केंद्र सरकार अनियंत्रित डिपॉजिट स्कीम अध्यादेश जल्द ही लेकर आ रही है, जिसके लागू होने के बाद यदि आप अपने दोस्तों से किसी भी इमरजेंसी के दौरान पैसा उधार लेते हैं, तो इससे आपकी मुश्किलेंं बढ़ सकती हैं. इस अध्यादेश के लागू होने के बाद को-ऑपरेटिव सोसाइटी, चिट फंड से पैसों का जुगाड़ करना भी महंगा पड़ेगा. इसके अलावा व्यापारियों अथवा चैरिटेबिल संस्था से अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए आसानी से पैसा नहीं ले पाएंगे.

काले धन पर लगेगा लगाम

केंद्र सरकार जल्द ही एक अध्यादेश लाया जा रहा है, जिसके लागू होने के बाद चिट फंड कंपनियों के अलावा को-ऑपरेटिव सोसाइटी में पैसा जमा करना पहले से काफी मुश्किल हो जाएगा. अनियंत्रित डिपॉजिट स्कीम अध्यादेश के लागू होने के बाद काले धन पर लगाम लग सकता है. इस अध्यादेश का असर काफी लोगों पर पड़ सकता है.

नोटबंदी से हो रही तुलना

 

केन्द्र सरकार के इस अध्यादेश की तुलना नोटबंदी से की जा रही है. अब तक नियमों के अनुसार, रिश्तेदारों, बैंक, वित्तीय संस्थानों, प्रॉपर्टी खरीदार और ग्राहकों से पैसा उधार लेने पर छूट मिलती थी. इसी के साथ कारोबारी भी किसी गैर रिश्तेदार से कारोबार करने के लिए लोन ले सकता है, लेकिन अनियंत्रित डिपॉजिट स्कीम अध्यादेश के नए नियमों को नोटबंदी से भी ज्यादा बड़ा माना जा रहा है.

अब सिर्फ रिश्तेदारों से ले सकेंगे उधार

अनियंत्रित डिपॉजिट स्कीम अध्यादेश के नियमों के अनुसार बच्चों की पढ़ाई, घर के किसी सदस्य के बीमार होने पर आप सिर्फ रिश्तेदारों से पैसा ले सकेंगे. इस तरह के खर्चों के लिए लोग रिश्तेदारों के बजाए अपने दोस्तों से पैसा उधार लेते थे.

  जब्त होगी संपत्ति

अध्यादेश के अनुसार बैंकों या फिर अन्य तरीकों से पैसा जमा करने, उधार लेने पर ऐसे लोगों की संपत्ति को जब्त हो सकती है. इसके साथ ही ऐसे व्यक्ति को जेल जाना पड़ सकता है.

सुप्रीम कोर्ट में अब 26 और 28 फरवरी को होगी धारा 35A की सुनवाई

First published: 25 February 2019, 12:17 IST
 
अगली कहानी