Home » इंडिया » Centre: Ban on diesel taxis could hit BPO sector
 

केंद्र: डीजल टैक्सियों पर बैन से बीपीओ कंपनियां प्रभावित

कैच ब्यूरो | Updated on: 5 May 2016, 17:05 IST

केंद्र सरकार ने डीजल टैक्सियों पर बैन के मामले में सुप्रीम कोर्ट में दलील दी है कि इससे बीपीओ सेक्टर पर बुरा असर पड़ेगा. गुरुवार को इस मामले में अदालत में सुनवाई हुई. 

सुप्रीम कोर्ट में डीजल से चलने वाली टैक्सियों पर रोक को लेकर सरकार ने कहा कि इससे बीपीओ के फलते-फूलते उद्योग पर बुरा असर पड़ेगा. 

1.20 अरब डॉलर के नुकसान की दलील


केंद्र सरकार की तरफ से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल रंजीत कुमार ने कहा कि दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में डीजल टैक्सियों पर प्रतिबंध लगाने से देश को एक अरब बीस करोड़ डॉलर का नुकसान होगा.

सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि इस कदम के बाद बीपीओ कंपनियां भारत से बाहर जाने के बारे में सोच सकती हैं. रंजीत कुमार ने कहा कि देश में बीपीओ इंडस्ट्री पर बैन का बुरा असर पड़ सकता है. 

पढ़ें:डीजल टैक्सी ड्राइवरों के प्रदर्शन से फिर जूझा दिल्ली और एनसीआर

चीफ जस्टिस टीएस ठाकुर की अध्यक्षता वाली बेंच में मामले की सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि डीजल टैक्सियों का इस्तेमाल बीपीओ कर्मचारियों को लाने और ले जाने के लिए किया जाता है.

केंद्र सरकार ने कहा कि बैन से अर्थव्यवस्था प्रभावित होगी. रंजीत कुमार ने अदालत में ये भी कहा कि केंद्र सरकार इस मुद्दे पर जल्द ही एक आवेदन दाखिल करेगी, जो बीपीओ कर्मियों की सुरक्षा से भी जुड़ा है. 

'सीएनजी बस का करें इस्तेमाल'


सॉलिसिटर जनरल की दलील पर अदालत ने सवाल किया कि बीपीओ कंपनियां कर्मचारियों के परिवहन के लिए सीएनजी बसों की सेवाएं क्यों नहीं ले सकतीं. 

पढ़ें:दिल्ली-NCR में एक मई से नहीं चलेंगी डीजल टैक्सियां

इस बीच पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण (ईपीसीए) ने अदालत को जानकारी दी है कि वो डीजल टैक्सियों पर प्रतिबंध से उपजे हालात पर दिल्ली सरकार के साथ चर्चा कर रहा है.

सुप्रीम कोर्ट ने इस पर वकील से कहा कि वो इस मुद्दे पर खाका पेश करें. मामले में अगली सुनवाई नौ मई को होगी.  सुप्रीम कोर्ट ने 30 अप्रैल को डीजल टैक्सी ऑपरेटरों को राहत देने से इनकार करते हुए डेडलाइन बढ़ाने से इनकार कर दिया था.

कोर्ट ने एक मई से दिल्ली और एनसीआर में सभी डीजल टैक्सियों पर रोक लगाते हुए उन्हें सीएनजी में बदलने का आदेश दिया था.

ऑल इंडिया परमिट वाली डीजल टैक्सियों को बैन से छूट है. वहीं फैसले के खिलाफ टैक्सी ऑपरेटरों ने प्रदर्शन करते हुए दिल्ली और एनसीआर में कई जगह जाम लगाया था.जिससे लोगों को काफी मुश्किल हुई थी.

पढ़ें:डीजल कारों पर रोक से इंडस्ट्री परेशान, क्या प्रदूषण पर लगेगी लगाम?

First published: 5 May 2016, 17:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी