Home » इंडिया » Centre creates ‘Jal Shakti’ ministry by merging water resources and drinking water ministries
 

मोदी सरकार ने पीने के पानी की समस्या से निपटने के लिए बनाया नया मंत्रालय

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 May 2019, 17:29 IST

 

केंद्र ने शुक्रवार को जल संसाधन मंत्रालय और पीने के पानी और स्वच्छता मंत्रालय (ministries of water resources, and drinking water and sanitation) को जल शक्ति मंत्रालय में विलय कर दिया. भारतीय जनता पार्टी के सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत इस मंत्रालय संभालेंगे, जबकि राम लाल कटारिया राज्य मंत्री होंगे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव अभियान के दौरान पानी से संबंधित मामलों से निपटने के लिए एक एकीकृत मंत्रालय बनाने का वादा किया था.

शुक्रवार को कार्यभार संभालने के बाद शेखावत ने कहा, "जल संबंधी सभी कार्यों को एक मंत्रालय के तहत मिला दिया जाएगा. " उन्होंने कहा कि भाजपा के घोषणा पत्र के अनुसार, मंत्रालय की प्राथमिकता सभी को स्वच्छ पेयजल उपलब्ध कराना होगा. मंत्रालय अंतर्राष्ट्रीय और अंतर-राज्य जल विवादों और नमामि गंगे परियोजना, गंगा, इसकी सहायक नदियों और उप-सहायक नदियों को साफ करने की पहल को भी देखेगा.

पत्रकारों से बात करने वाले शेखावत ने इस दावे को खारिज कर दिया कि 2014 और 2019 के बीच नमामि गंगे परियोजना में कुछ भी हासिल नहीं हुआ था. उन्होंने दावा किया कि गंगा को काफी हद तक साफ कर दिया गया है. मोदी और 57 कैबिनेट मंत्रियों ने गुरुवार शाम राष्ट्रपति भवन में शपथ ली.

यहां देखिये नई मोदी सरकार के 24 कैबिनेट, 24 राज्य और 9 स्वतंत्र प्रभार के मंत्रियों की पूरी लिस्ट

First published: 31 May 2019, 17:29 IST
 
अगली कहानी