Home » इंडिया » Centre transfers CBI officers investigating top agency official Rakesh Asthana in bribery case
 

अस्थाना के करप्शन की जांच कर रहे इन CBI अधिकारियों को दिखाया गया बाहर का रास्ता

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 October 2018, 12:42 IST

सीबीआई में मचे हंगामे के बीच एम नागेश्वर को सीबीआई का नया अंतरिम निदेशक बनाया गया है. हालांकि सीबीआई के प्रवक्ता का कहना है कि सीबीआई हेड क्वाटर में कोई भी कमरा सील नहीं किया गया है. केंद्र ने सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रहे कई अफसरों का तबादला कर दिया है. इस जांच की अगुवाई कर रहे अजय बस्सी का तबादला पोर्ट ब्लेयर किया गया है. ये सभी अफसर आलोक वर्मा के करीबी बताये जाते हैं. हालांकि वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण का कहना है कि वह इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देंगे. क्योंकि अफसरों को हटाने का अधिकार केंद्र के पास नहीं है. हालांकि अलोक वर्मा ने खुद को हटाए जाने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाज खटखटाया है. शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट इस पर सुनवाई करेगा.

 

इसके अलावा राकेश अस्थाना मामले की जांच कर रहे जिन अफसरों का तबादला किया गया है उनमे डीआईजी मनीश कुमार सिन्हा, डीआईजी तरुण गौबा, डीआईजी जसबीर सिंह, डीआईजी अनिश प्रसाद, डीआईजी केआर चौरासिया, राम गोपाल और एसपी सतीश डागर का नाम शामिल है. इसके अलावा अरुण कुमार शर्मा, एक साईं मनोहर, वी मुरुगेसन और डीआईजी अमित कुमार को स्थानांतरित कर दिया गया है. ये सभी सीबीआई के विशेष डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ मामले की जांच करने वाली टीम का हिस्सा थे.

खुद को छुट्टी पर भेजे जाने के खिलाफ आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है. सुप्रीम कोर्ट ने भी आलोक वर्मा की याचिका स्वीकार कर ली है. सुप्रीम कोर्ट ने इस पर सुनवाई की तारीख 26 अक्टूबर रखी है. बता दें कि देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई के भीतर बढ़ते टकराव को देखकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार को दखल देना पड़ा.

कैबिनेट की अपॉइंटमेंट कमेटी ने रात के तकरीबन साढ़े 11 एक आर्डर जारी किया, जिसमे आदेश दिया गया कि सीबीआई के डायरेक्टर अलोक वर्मा को छुट्टी पर भेज दिया जाए, इसके साथ ही विशेष डायरेक्टर राकेश अस्थाना को भी छुट्टी पर भेज दिया गया.

First published: 24 October 2018, 12:31 IST
 
अगली कहानी