Home » इंडिया » Centre will send water to Bundelkhand via special train
 

लातूर के बाद अब बुंदेलखंड की प्यास बुझाएगी पानी एक्सप्रेस

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2016, 14:08 IST

सूखे की मार झेल रहे बुंदलेखंड के लिए एक अच्छी खबर है. रेलवे ने लातूर की तर्ज पर उत्तर प्रदेश के सूखाग्रस्त बुंदेलखंड के जिलों में पानी एक्सप्रेस से पानी पहुंचाने का फैसला किया है.

रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा की पहल पर ये गाड़ी राजस्थान में कोटा के बाणसागर बांध से पानी लेकर महोबा जाएगी. सिन्हा ने हमीरपुर-महोबा के सांसद पुष्पेन्द्र सिंह चंदेल से सलाह-मशविरा करके रेलवे बोर्ड के अधिकारियों को पानी भेजने के निर्देश दिए हैं.

छह मई को पहुंचेगी महोबा

महोबा में पानी की पहली गाड़ी 6 मई को सुबह पहुंचेगी. रेलवे बोर्ड के अधिकारियों के मुताबिक कोटा से ये गाड़ी पांच मई की शाम को रवाना होगी और यूपी के बीना, झांसी होते हुए अगले दिन सुबह महोबा पहुंचेगी.

पढ़ें:सूखाग्रस्त लातूर में अब तक 70 लाख लीटर पानी पहुंचा

बुन्देलखंड में उत्तर प्रदेश के बांदा, चित्रकूट, महोबा, ललितपुर और झांसी के साथ ही मध्यप्रदेश के टीकमगढ़, पन्ना, छतरपुर, दमोह और सागर जिले में पानी का संकट ज्यादा है. पिछले तीन साल से यहां पर मॉनसून काफी कमजोर रहा है.

इन जिलों में अंधाधुंध पत्थर खनन और सूखे के चलते भूजल का स्तर काफी नीचे चला गया है. इन इलाकों में लोग पीने के पानी के लिए तरस रहे हैं. कई गांवों में पशुओं के लिए पानी और चारा भी उपलब्ध नहीं है.

लातूर में भेजी गई थी ट्रेन

बुंदेलखंड में ज्यादातर तालाब और कुएं सूख चुके हैं. वहीं नदियों में भी पानी की भारी कमी हो चुकी है. यही वजह है कि लाखों किसान एक जगह से दूसरी जगह पलायन कर चुके हैं.

पढ़ें:5 लाख लीटर पानी के साथ लातूर पहुंची राहत की रेल

इससे पहले महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त जिले लातूर में पानी की कमी से जूझ रहे लोगों को ट्रेन के जरिए पानी पहुंचाया जा चुका है. 50 वैगन वाली 'जलदूत एक्सप्रेस' 25 लाख लीटर पानी लेकर 11 अप्रैल को लातूर पहुंची थीं.

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को दी गई जानकारी में बताया है कि देश के 10 राज्यों के 256 जिलों के 33 करोड़ लोग सूखे की मार झेल रहे हैं.

पढ़ें:लातूर को पानी भेजने की केजरीवाल की पेशकश महाराष्ट्र ने ठुकराई

First published: 4 May 2016, 14:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी