Home » इंडिया » CEPR Survey shows 68 percent Indians feel job market has improved in 5 years
 

रिपोर्ट का दावा: 68 फीसदी भारतीयों ने माना, मोदी राज में बढ़े नौकरी पाने के अवसर

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 May 2019, 11:12 IST

सेंटर फॉर इकोनॉमिक पॉलिसी रिसर्च और टैलेंट एज ने मंगलवार को जारी एक नए सर्वेक्षण में कहा गया है कि देश में आईटी / आईटीईएस, हेल्थकेयर और फार्मा, कंज्यूमर रिटेल, बीएफएसआई और प्रोफेशनल सर्विसेज सेक्टरों में काम करने वाले 68 फीसदी कामकाजी पेशेवरों को लगता है कि मोदी सरकार के कार्यकाल में बीते पांच सालों में जॉब मार्केट में काफी सुधार हुआ है.

इस सर्वें में कहा गया है कि 66 प्रतिशत पुरुष कामगार और और 60 प्रतिशत महिला कामगारों के लिए, देश में स्टार्ट-अप इकोसिस्टम पिछले पांच वर्षों में काफी ज्यदा विकसित हुआ है और कामगारों को अधिक अवसर मिला है. सेंटर फॉर इकोनॉमिक पॉलिसी रिसर्च द्वारा संयुक्त सर्वेक्षण और ऑनलाइन इंटरेक्टिव लर्निंग सॉल्यूशंस प्लेटफॉर्म टैलेंट एज के सर्वे में इस बात को कहा गया है.

सीईपीआर के निदेशक सुभाष शर्मा ने कहा कि, हम ऐसे माहौल में रह रहे हैं, जहां आर्थिक और व्यावसायिक विकास दोनों ही बढ़ रहे हैं. प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नए विकास नए रोजगार का सर्जन कर रहे है, जिससे नए कुशल कामगारों की आवश्यकता बढ़ रही है.

इस सर्वे में कहा गया है कि लगभग 70 प्रतिशत लोगों ने माना कि उनके पास भविष्य में रोजगार के बेहतर अवसर होगें. वहीं 75 प्रतिशत लोगों का मानना है कि डिजिटलाइजेशन होने के बाद से उन्हें काम के अधिक अवसर मिले है.

इस सर्वे में कहा गया है कि, बीते पांच सालोंं में देश भर में औसतन 68 फीसदी कामगार पेशेवरों को कम से कम एक बार अपने करियर को दिशा देने का मौका मिला है. सर्वे में यह भी कहा गया है कि जिन लोगों के पास हायर डिग्री है उनको रोजगार के अधिक अवसर मिले है.

वहीं सर्वे में बताया गया है कि देश में 70 फीसदी से अधिक कामगार मजदूरों को लगता है कि देश में डिजिटलाइजेशन होने से रोजगार सर्जन में बढ़ावा हुआ है.

First published: 22 May 2019, 11:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी