Home » इंडिया » Chandrayaan 2: ISRO Chief K Sivan broke down then PM Narendra Modi hugged and consoled
 

Video: PM मोदी को पकड़कर फूट-फूटकर रोने लगे ISRO चीफ, देखकर आपकी आंखें भी हो जाएंगी नम

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 September 2019, 9:28 IST

देश पिछले 11 साल से जिस लम्हे का बेसब्री का इंतजार कर रहा था. वो सपना पूरा नहीं हो सका. चंद्रयान 2 के विक्रम लैंडर का मात्र 2.1 किमी की दूरी से संपर्क टूट गया. यह देश के लिए बहुद दुखद पल था. ISRO के सारे वैज्ञानिक निराश हो गए थे. इसरो चीफ के सिवन ने दु:खी मन से जानकारी देते हुए बताया था कि विक्रम लैंडर से संपर्क टूट गया.

इसके बाद आज सुबह पीएम मोदी दोबारा इसरो मुख्यालय पहुंचे थे. इस दौरान इसरो चीफ के. सिवन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सामने पाकर गले लगकर रोने लगे. इसरो चीफ फूट-फूटकर रो रहे थे. इसके बाद पीएम मोदी ने उन्हें अपने सीने से लगा लिया और कुछ पलों तक उनको ढांढस बंधाते रहे. 

बता दें कि चंद्रयान-2 मिशन का भविष्य अंधेरे में झूल गया है. चंद्रमा की सतह से महज 2.1 किलोमीटर पहले इसरो का संपर्क लैंडर विक्रम से टूट गया. आखिरी के 15 मिनट में से लगभग 13 मिनट तक सब कुछ ठीक चल रहा था, लेकिन आखिरी के 90 सेकंड में जो हुआ उससे देश का दिल टूट गया और भारत का चांद पर सफलतापूर्वक पहुंचने का सपना अधूरा रह गया.

आखिरी 15 मिनट में इसरो के वैज्ञानिकों के साथ पीएम मोदी की पलकें भी स्क्रीन पर गड़ी थीं, स्क्रीन पर चांद की ओर बढ़ता लैंडर विक्रम दिख रहा था. तब सभी के चेहरों पर जबरदस्त उत्सुकता थी. लेकिन लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग से महज चंद सेकंड पहले वैज्ञानिकों के हाव-भाव बदल गए. करीब 25 मिनट तक इसरो सेंटर में जबरदस्त सस्पेंस बना रहा. 

आखिरकार वैज्ञानिकों के चेहरे की मायूसी ने सबकुछ संकेत दे दिए. फिर इसरो चीफ के सिवन ने देश को बताया कि लैंडर से संपर्क टूट गया है. हालांकि ऑर्बिटर अब भी चांद के चक्कर काट रहा है. वह आने वाले वक्त में इसरो के लिए बहुत उपयोगी साबित होगा और एक साल तक डाटा को इसरो के साथ साझा करेगा.

First published: 7 September 2019, 9:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी