Home » इंडिया » Chandrayaan 2 ISRO lander Vikran contact broken new information it disconnect at 335 meters from moon surface
 

Chandrayaan 2: लैंडर विक्रम के इसरो से संपर्क को लेकर आई ये बड़ी खबर

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 September 2019, 15:11 IST

Chandrayaan 2: इसरो ने लैंडर विक्रम के संपर्क टूटने को लेकर एक बड़ा खुलसा किया है. इसरो ने बताया है कि लैंडर विक्रम का जब इसरो सेंटर से संपर्क टूटा तब वह चंद्रमा की सतह से 2.1 किलोमीटर दूर नहीं बल्कि 335 मीटर की दूरी पर था. इसरो के मिशन ऑपरेशन कॉम्प्लेक्स से जारी तस्वीर से इस बात का खुलासा हुआ है.

बता दें कि जब लैंडर विक्रम चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करने वाला था तब वह इसरो के एक ग्राफ में दिखाई दे रही तीन रेखाओं के बीच में स्थित लाल रेखा पर चल रहा था. लाल रेखा इसरो द्वारा निर्धारित विक्रम का पूर्व निर्धारिक पथ था. विक्रम लैंडर के आगे बढ़ने के साथ ही लाल रंग की रेखा के उपर हरे रंग की रेखा साफ दिखाई दे रही थी.

बता दें कि लैंडर विक्रम चंद्रमा की सतह से 4.2 किलोमीटर की ऊंचाई पर था, तभी यह अपने पूर्व निर्धारित पथ से थोड़ा भटक गया, लेकिन जल्द ही उसे सही कर दिया गया. इसके बाद जब विक्रम चंद्रमा की सतह से 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर पहुंचा तो वह अपने पथ से भटक कर दूसरे रास्ते पर चलने लगा. इस घटना का प्रसारण पूरी दुनिया ने देखा था. क्योंकि इसरो ने बैंगलूरू स्थित सेंटर से इसे लाइव किया था.

बता दें कि जिस समय विक्रम ने अपना निर्धारित पथ छोड़ा उस समय उसकी गति 49 मीटर प्रति सेकंड थी. पथ भटकने के बावजूद सतह से 400 मीटर की ऊंचाई पर विक्रम लैंडर की गति लगभग उस स्तर पर पहुंच चुकी थी, जिस पर उसे सॉफ्ट लैंडिंग करनी थी. मिशन ऑपरेशन कॉम्प्लेक्स की स्क्रीन पर दिखाई दे रहे ग्राफ में लैंडिग के लिए पूर्व निर्धारित 15 मिनट के 13वें मिनट में स्क्रीन पर एक हरे धब्बे के साथ सब कुछ रुक गया. उस समय विक्रम लैंडर चंद्रमा की सतह से 335 मीटर की ऊंचाई पर था. जिसके बारे में जानकारी अब सामने आई है.

Video: हाथ में फरसा लेकर बेकाबू हुए मनोहर लाल खट्टर, अपने ही नेता को बोला- काट दूंगा तेरी गर्दन

First published: 11 September 2019, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी