Home » इंडिया » chandrayaan 2 know everything about chandrayaan 2 launches tonight from sriharikota
 

Chandrayaan 2: भारत की अंतरिक्ष में उड़ान का काउंटडाउन शुरु, जानिए चंद्रयान से जुड़ी विशेषता

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 July 2019, 10:11 IST

भारत अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक और उड़ान भरने जा रहा है. चंद्रयान-2 के जरिए भारत की अंतरिक्ष के क्षेत्र में ये अहम कामयाबी होगी. इसरो यानि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन अपने मून मिशन चंद्रयान-2 को आज रात यानि 14-15 जुलाई रात 2.51 बजे लॉन्च करेगा. चंद्रयान-2 को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन सेंटर के लांच किया जाएगा. इसे भारत के सबसे ताकतवर जीएसएलवी मार्क-III रॉकेट से लॉन्च किया जाएगा. लॉन्च के सफल होने के बाद चंद्रयान करीब 55 दिन में 6-7 सितंबर को चंद्रमा की सतह पर उतरेगा.

चंद्रयान-2 का लैंडर विक्रम और रोवर प्रज्ञान दक्षिणी ध्रुव पर उतरेंगे. वहीं, ऑर्बिटर चंद्रमा के चारों तरफ चक्कर लगाते हुए विक्रम और प्रज्ञान से मिले डाटा के पृथ्वी पर स्थित इसरो केंद्र के भेजेगा. इसरो ने इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए 1000 करोड़ रुपए खर्च किए हैं. अगर मिशन सफल हुआ तो अमेरिका, रूस, चीन के बाद भारत चांद पर रोवर उतारने वाला चौथा देश बन जाएगा.

बता दें कि इसरो के वैज्ञानिकों ने इस मिशन के लिए साल 2007 में तैयारी शुरु की थी. उसी साल नवंबर में रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमॉस ने इसरो को इस प्रोजेक्ट में साथ काम करने का वादा किया. जिसके तहत इसरो को लैंडर देता. साल 2008 में इस मिशन को सरकार से अनुमति मिली. साल 2009 में चंद्रयान-2 का डिजाइन तैयार कर लिया गया. उसके बाद जनवरी 2013 में लॉन्चिंग तय थी, लेकिन रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमॉस लैंडर नहीं दे पाई.

 

उसके बाद इसरो ने चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग मार्च 2018 तय की गई, लेकिन कुछ टेस्ट के लिए लॉन्चिंग को अप्रैल 2018 और फिर अक्टूबर 2018 तक टाल दिया गया. जून 2018 में इसरो ने फैसला लिया कि कुछ बदलाव करके चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग जनवरी 2019 में की जाएगी.

हालांकि इस की लॉन्च डेट एक बार फिर से बढ़ा दी गई और तय हुआ कि इस फरवरी 2019 में लॉन्च किया जाएगा. लेकिन तब भी इसकी लॉन्चिंग नहीं हो पाईबता दे कि इसरो का ये दूसरा चंद्र अभियान है. जो भारत की छवि बनाने के लिए अहम होगा. अभी तक दुनिया के पांच देश ही चांद पर लैंडिंग करा पाए हैं. जिनमें अमेरिका, रूस, यूरोप, चीन और जापान शामिल हैं. अब भारत भी इसी श्रेणी में शामिल होने जा रहा है.

First published: 14 July 2019, 10:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी