Home » इंडिया » Chanrayaan 2 ISRO announces new date of launching of moon mission chandrayaan 2
 

Chandrayaan 2 की नई लॉन्चिंग डेट का ISRO ने किया एलान, अब इस दिन भेजा जाएगा रॉकेट

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 July 2019, 9:12 IST

ISRO ने चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग की नई तारीख की घोषणा कर दी है. बता दें कि इसरो का ये दूसरा चंद्र मिशन है. Chandrayaan-2 की लॉन्चिंग 15 जुलाई की रात होनी थी, लेकिन कुछ तकनीकी खामी के चलते इसकी लॉन्चिंग को 56.24 मिनट पहले रोक दिया गया. चंद्रयान-2 को तड़के सुबह 2.51 बजे GSLV-MK3 से लॉन्च किया जाना था.

हालांकि, तकनीकी की कमी के चलते इसका काउंटडाउन 56.24 मिनट पहले ही रोक दिया गया. इसरो प्रवक्ता बीआर गुरुप्रसाद ने इसरो की ओर से एक बयान देते हुए कहा कि जीएसएलवी-एमके3 लॉन्च व्हीकल में खामी आने की वजह से चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग रोक दी गई है. इसरो के वैज्ञानिकों ने इसकी खामी का पता लगाकर उसे ठीक कर दिया है.

मीडिया ने इसरो के विश्वस्त सूत्रों के हवाले से लिखा है कि क्रायोजेनिक स्टेज के कमांड गैस बॉटल में प्रेशर लीकेज था. इसमें हीलियम भरा था. यह क्रायोजेनिक इंजन में भरे लिक्विड ऑक्सीजन और लिक्विड हाइड्रोजन को ठंडा रखने का काम करता है. इसी हीलियम लीकेज की वजह से चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग को रोकना पड़ा था. लीकेज की वजह से बॉटल में हीलियम का प्रेशर लेवल नहीं बन रहा था.

यह 330 प्वाइंट से घटकर 300, फिर 280 और अंत में 160 तक पहुंच गया था. इसलिए लॉन्चिंग को रोकना पड़ाबता दें कि इसरो के वैज्ञानिकों की योजना थी कि पूरे जीएसएलवी-एमके 3 को अलग-अलग किया जाएगा, लेकिन ऐसा करने की जरूरत नहीं पड़ी. सिर्फ उस हिस्से को निकालकर ठीक कर दिया है, जिसमें खामी थी.

इसरो के वैज्ञानिक आज यानि 18 जुलाई को दिनभर टेस्ट करेगी. उसके बाद शाम को इसरो की एनालिसिस कमेटी सारे टेस्ट के परिणामों की जांच करेगा. साथ ही जीएसएलवी-एमके 3 रॉकेट के उन हिस्सों की क्लीनिंग होगी, जिसमें से ईंधन निकाला गया था.

इसरो के विश्वस्त सूत्रों के मुताबिक, इसरो के वैज्ञानिकों ने हीलियम लीकेज की समस्या को ठीक कर दिया है. कुछ टेस्ट बाकी हैं जो 18 जुलाई तक पूरे होंगे. इसके बाद इसरो 22 जुलाई को दोपहर 2.52 बजे चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग कर सकता है. इसके साथ ही चंद्रयान-2 की चांद पर पहुंचने वाली तारीख भी बदल जाएगी. पहले चंद्रयान-2 चांद पर 6 सितंबर को पहुंचने वाला था, लेकिन अब ये 11 या 12 सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव पर पहुंचेगा.

First published: 18 July 2019, 9:12 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी