Home » इंडिया » Char Dham Yatra 2020: Kedarnath Temple Door open today for summer
 

ग्रीष्मकाल के लिए खुले बाबा केदारनाथ धाम के कपाट, फिलहाल दर्शन नहीं कर सकेंगे भक्त

कैच ब्यूरो | Updated on: 29 April 2020, 9:11 IST

Kedarnath Dham doors open: लॉकडाउन के बीच आज सुबह केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खुल गए. बुधवार मेष लग्न में भगवान केदारनाथ के कपाट (Door) खुलने के साथ ही अगले छह महीने तक भक्त बाबा के दर्शन कर पाएंगे. हालांकि, कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते किए गए लॉकडाउन (Lockdown) के चलते अभी भक्तों को केदारनाथ के दर्शन करने की अनुमति नहीं है. केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के समय पूजा में पुजारी के साथ कुल 16 लोग ही शामिल हुए और सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखा गया.

तड़के सुबह करीब तीन बजे केदारनाथ धाम के मुख्य पुजारी शिव शंकर लिंग ने विशेष पूजा अर्चना शुरु की. उसके बाद सुबह 6:10 बजे कपाट खोल दिए गए. ये पहली बार था कि जब बाबा केदारनाथ के कपाट खोले गए तब तीर्थयात्री और स्थानीय लोगों की कमी देखी गई. कपाट खुलने के बाद देवस्थानम बोर्ड के प्रतिनिधि के तौर पर बीडी सिंह समेत पंचगाई से संबंधित 20 कर्मचारी केदारनाथ धाम पहुंचे. इसके अलावा पुलिस और प्रशासन के करीब 15 लोग भी वहां मौजूद रहे. इस बार मंदिर को फूलों के बजाय बिजली की लड़ियों से सजाया गया है.


घर को बुरी नजर बचाने के लिए अपनाएं ये वास्तु टिप्स, नेगेटिविटी रहेगी दूर!

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने भगवान केदारनाथ के कपाट खोले जाने पर सभी श्रद्धालुओं को बधाई दी और कहा कि बाबा केदार हम सभी पर अपनी कृपा बनाकर रखें. उन्होंने कहा कि बाबा केदार के आशीर्वाद से हम कोरोना की इस वैश्विक महामारी को हराने में अवश्य कामयाब होंगे. कोरोना के कारण इस बार आम जन दर्शन के लिये नहीं आ सके. हम सभी के मन में बाबा केदार के लिए अपार श्रद्धा है. बाबा केदार, अपने भक्तों पर स्नेह बनाये रखें, यही कामना है.

घर पर भूलकर भी न लगाएं ये चीजें, वास्तु के हिसाब से होता है अशुभ

कोरोना वायरस की महामारी के चलते और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए प्रशासन ने इस बार लोगों को केदारनाथ जाने की अनुमति नहीं दी है. इसलिए कपाट खुलने के मौके पर काफी कम संख्या में लोग मौजूद रहे. मंगलवार को जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने कहा था कि, कोरोना महामारी के चलते केदारनाथ के कपाट खुलने की परम्परा का सादगी से निर्वहन किया जाएगा, किसी भी दर्शनार्थी को केदारनाथ जाने की अनुमति नहीं दी गई है.

लॉकडाउन में शनि को शांत करने के लिए करें इस पौधे की पूजा, यज्ञ करने से समाप्त होगा कोरोना का असर

केदारनाथ धाम में इस साल अधिक बर्फ गिरने की वजह से मंदिर के चारों ओर बर्फ ही बर्फ दिखाई दी. केदारनाथ धाम पहुंचने के लिए बर्फ काटकर चार फुट से अधिक चौड़ा रास्ता बनाया. बीते सालों की तुलना में इस बार केदारनाथ में काफी बर्फ देखी गई. केदारनाथ धाम से पहले रविवार को यमुनोत्री धाम के कपाट भी खोल दिए गए हैं. यहां भी लॉकडाउन के चलते श्रद्धांलुओं की कमी देखी गई. अब 15 मई बदरीनाथ के कपाट खोले जाएंगे. मुख्यमंत्री आवास पर सरकार और राजपरिवार के प्रतिनिधियों के बीच बैठक के बाद यह फैसला लिया गया है.

Solar Eclipse 2020: इस दिन लगेगा सूर्य ग्रहण, जानिए सूतक काल और ग्रहण का समय

सुबह जल्दी उठकर ये काम करने से घर में आएगी सुख-समृद्धि

First published: 29 April 2020, 9:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी