Home » इंडिया » Chattisgarh election 2018: congress president Rahul gets support of religious group
 

छत्तीसगढ़ में BJP को बड़ा झटका, राहुल गांधी के लिए प्रचार करेंगे भाजपा को सत्ता में पहुंचाने वाले ये बड़े संत

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 November 2018, 11:34 IST

छत्तीसगढ़ चुनावों के लिए कांग्रेस ने अपना ट्रम्प कार्ड खेल दिया है. छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी को तीसरी बार सत्ता तक पहुंचाने वाले बाबा बालदास ने अब भाजपा का साथ छोड़ दिया है. भाजपा छोड़ बाबा बालदास की सतनाम सेना अब राहुल गांधी को सत्ता में लाने के लिए छत्तीसगढ़ में प्रचार करने में जुट गई है. वहीं अब खुद बाबा बालदास कांग्रेस के लिए राहुल गांधी के साथ चुनाव प्रचार करेंगे. राहुल गांधी के लिए बाबा बालदास की सतनाम सेना घर-घर जाकर कांग्रेल के लिए प्रचार कर रही है.

गौरतलब है कि राहुल तीन बार सत्ता में रह चुकी भाजपा से सीट कांग्रेस के नाम करने के लिए राहुल गांधी खासी मेहनत कर रहे हैं. इस बाबत राहुल गांधी कल से यानी 9 नवंबर से छत्तीसगढ़ के दो दिवसीय दौरे पर निकलेंगे. इस दौरे में वो छत्तीसगढ़ की 18 विधानसभा सीटों में करीब एक दर्जन सीटों के लिए कांग्रेस पार्टी का प्रचार करंगे. चुनाव प्रचार के चलते राहुल जनसंपर्क बनाने के लिए जनसभाओं को भी सम्बोधित करेंगे.

फैज़ाबाद के बाद अब अहमदाबाद का नाम बदलने को तैयार BJP सरकार

गौर करने की बात ये यहीं कि राहुल गांधी छत्तीसगढ़ में जिन दर्जन भर सीटों के लिए कांग्रेस का प्रचार करेंगे उनमे से करीब आधी सीट ऐसी हैं जहां पर सतनामी समुदाय का एक बड़ा वोट बैंक है. वोट बैंक की गणित के लिहाज से देखा जाए तो ये सीटें किसी भी पार्टी के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं. लेकिन जिस तरह से अब बाबा बालदास ने भाजपा का साथ छोड़ कांग्रेस का हाथ थामा है उससे छत्तीसगढ़ की राजनीति में बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है. छत्तीसगढ़ में भाजपा के चौथी बार सत्ता हथियाने के दावे को कांग्रेस के इस दांव से नुकसान हो सकता है.

वहीं कांग्रेस पार्टी ने बाबा बालदास और बाबा खुशवंत सहाय का बड़े ही उत्साह से स्वागत किया. इसी के साथ कांग्रेस इन दोनों प्रभावी चेहरों को उन इलाकों में चुनावी प्रचार की कमान सौंपी है, जहां अनुसूचित जाती वर्ग का सतनामी समुदाय का बड़ा वर्ग मौजूद है.

इसी के साथ बड़ा दांव खेलते हुए कांग्रेस के पक्ष में बाबा बालदास और बाबा खुशवंत सहाय के साथ राहुल गांधी उन इलाकों में वोटरों का हृदय परिवर्तन करने की कोश‍िश करेंगे, जहां बीजेपी को बड़ी मात्रा में वोट मिल सकते थे. गौरतलब है कि पिछले विधानसभा चुनाव में सतनाम सेना बनाकर बाबा बालदास ने ही बीजेपी को सत्ता तक पहुंचा दिया था.

भाजपा से नाराज बाबा ने उठाय ये कदम
कांग्रेस में शामिल होने को लेकर बाबा बालदास ने साफ़ किया है कि उन्होंने पिछली बार भाजपा को सत्ता तक इसलिए पहुंचाया था जिससे कि सतनामी समुदाय की सामाजिक और आर्थिक उन्नति हो सके, लेकिन सत्ता में आने के बाद बीजेपी उनकी नजरों में खरी नहीं उतरी.

First published: 8 November 2018, 9:37 IST
 
अगली कहानी