Home » इंडिया » Chhattisgarh Election 2018: Naxal plant 3 IED near polling booth at Sukma, security forces detected
 

छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: नक्सलियों की धमकी के बीच तीन बजे तक 47.18 फीसदी मतदान

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 November 2018, 16:43 IST

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 18 सीटों के लिए हो रहे मतदान में 50 फीसदी तक मतदान होने  की उम्मीद है. 3 बजे दोपहर तक तक कुल 47.18% कुल मतदान हुआ था. ख़बरों के अनुसार नक्सली ग्रामीण इलाकों में लोगों को वोट न डालने के लिए धमका रहे हैं. इससे पहले छत्तीसगढ़ में पहले चरण के मतदान प्रक्रिया को बाधित करने के लिए नक्सलियों ने सुकमा में पोलिंग बूथ के करीब 3 IED प्लांट किये थे. लेकिन सुरक्षा बलों ने उनकी इस साजिश को नाकाम कर दिया. सुरक्षा बलों को नक्सलियों के गढ़ सुकमा में पोलिंग बूथ के पास तीन आईईडी बरामद हुए हैं. गौरतलब है कि इससे पहले दंतेवाड़ा में नक्सलियों ने सुरक्षाबलों को निशाना बनाते हुए आईईडी ब्लास्ट किया था. 
इससे पहले सुबह साढ़े पांच बजे नक्सलियों ने दंतेवाड़ा के तुमकपाल-नयानार रोड पर पोलिंग पार्टी और सुरक्षाबलों को निशाना बनाकर आईईडी ब्लास्ट किया था. हालांकि इस ब्लास्ट में किसी के घायल होने की कोई खबर नहीं है. पोलिंग पार्टी को सुरक्षित बूथ तक पहुंचाया गया जिसके बाद वहां मतदान समाय से शुरू हो सका. नक्सलियों ने ये धमाका सुबह करीब 5.30 बजे किया जब सुरक्षा बालों के साथ पोलिंग पार्टी बूथ की तरफ जा रहे थे.

 नक्सली हमलों के खौफ पर भारी पड़ा 100 साल की वृद्ध महिला का हौसला, 'नक्सलगढ़' में डाला वोट

इस तनाव और नक्सली हमलों के बीच भी दोपहर 1 बजे तक 25.15 प्रतिशत वोट डाले गए हैं. गौरतलब है कि राज्य की 18 सीटों पर होने वाले मतदान की सुरक्षा व्यवस्था कुल 1 लाख हथियारबंद जवानों के हाथों में हैं. राज्य में चुनाव को सुरक्षित और निष्पक्ष रूप से कराने के लिए केंद्र से लगभग 65 हजार जवानों को यहां भेजा गया है. जिनमें अर्धसैनिक बल और पुलिस बल के जवान शामिल हैं.

सुरक्षा के लिए तथा पड़ोसी राज्यों की पुलिस के साथ भी बेहतर तालमेल बनाकर अभियान चलाया जा रहा है. कुल मिलकर इस समय चुनावों कार्यों के लिए 1 लाख जवानों को सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है. संदिग्ध गतिविधियों पर नजर रखने के लिए मोबाइल चेक पोस्ट भी बनाए गए हैं.

First published: 12 November 2018, 13:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी