Home » इंडिया » Chhattisgarh strange hand pump is the symbol of corruption in state
 

एक हैंडपम्प जिससे पता चलती है छत्तीसगढ़ में भ्रष्टाचार की गहराई

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 26 July 2016, 7:38 IST
(पत्रिका)

छत्तीसगढ़ में मुंगेली के पदमपुर ठकुरदेवा गांव में 10 फीट ऊंचाई पर लगाए गए इस हैंडपंप को देखकर आपमें से कुछ लोगों को उस कान कटे बैल की याद आ सकती है, जो करीब तीन दशक पहले देश में सरकारी भ्रष्टाचार का प्रतीक बन गया था. 

बीमा राशि हड़पने के लिए उस बैल के कान में लगे टैग को बार-बार हटाया जाता और इसके लिए कान के उस हिस्से को भी काट दिया जाता. बाद में उसे मरा दिखा कर बीमा राशि हड़प ली जाती. यह बैल भ्रष्टाचार का प्रतीक बना कर दिल्ली के वोट क्लब पर लाया गया. मुंगेली जिले का यह हैण्डपम्प भी छत्तीसगढ़ में मानो भ्रष्टाचार की ऊंचाई बता रहा है.

छत्तीसगढ़: फोरलेन डायवर्जन की आड़ में 500 करोड़ का जमीन घोटाला

ठकुरदेवा के ग्रामीण बताते हैं, यह हैण्डपम्प इतना ऊंचा है कि उसके हत्थे को पकड़ने के लिए किसी व्यक्ति के कंधे पर चढ़ना पड़ता हैं. शायद ही कभी किसी गांव वाले ने इसका उपयोग किया हो.

इस हैण्डपम्प में भ्रष्टाचार करने के लिए मानको की अनदेखी की गई. ना तो निर्धारित गहराई तक इसे खोदा गया और ना ही पानी भरने के लिए सीमेंट का बेस बनाया गया. यहां तक कि इसे नाले के किनारे ऐसी जगह लगा दिया गया, जहां लोग ही नहीं पहुंचते. 

छत्तीसगढ़: जमीन गई जेब में, उद्योग गया तेल में

ग्रामीण कहते हैं, जब मुंगेली के अफसरों ने हमारी नहीं सुनी तो हमने सोशल मीडिया पर कैम्पेन छेड़ा. इसकी तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर यह प्रचारित किया कि यह हैण्डपम्प सरकारी दफ्तरों में फैले भ्रष्टाचार की ऊंचाई बता रहा है. हमारा कैम्पेन कामयाब हुआ. हैण्डपम्प की तस्वीर जमकर वायरल हुई. सरकार को झुकना पड़ा.

जब सरकार की खिल्ली उड़ने लगी तो कलेक्टर के निर्देश पर जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अफसर रविवार को गांव पहुंचे. अब इसका साइज छोटा किया जा रहा है. एक अधिकारी का कहना है, इस मामले में ठेकेदार के  खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

First published: 26 July 2016, 7:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी