Home » इंडिया » chhattisgarh: without notice kondagaon dm demolish the shop
 

छत्तीसगढ़: कोण्डागांव की डीएम शिखा राजपूत ने बिना नोटिस दुकान पर चलवा दिया बुलडोजर

आशीष कुमार पाण्डेय | Updated on: 21 August 2016, 14:47 IST
(कैच)

छत्तीसगढ़ के कोण्डागांव जिले की डीएम रश्मी राजपूत तिवारी ने बीते 16 अगस्त को तानाशाही दिखाते हुए जिले के बफना गांव में बिना किसी पूर्व नोटिस के एक दुकान पर बुलडोजर चलवा कर उसे गिरवा दिया.

इस मामले में दुकान के मालिक और पीड़ित रितेश पटेल ने जिले के पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह के यहां आवेदन देकर न्याय की गुहार लगाई है.

पुलिस शिकायत की प्रति

दरअसल यह पूरा मामला तिरंगे के अपमान से जुड़ा है. इस मामले की शुरुआत उस समय हुई जब बीते 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जिला मुख्यालय पर डीएम रश्मी राजपूत झंडे की सलामी लेने पहुंची.

अभी झंडे को सलामी दी जा रही थी, तभी डीएम महोदया मंच से जाने के लिए चप्पल पहनने लगीं. यह बात वहां खड़े रितेश पटेल को नागवार गुजरी और उसने इस मामले में अपना विरोध दर्ज कराया कि डीएम महोदया ने सलामी के बीच ही वहां से हटकर झंडे का अपमान किया है.

इस आरोप से गुस्से में आई डीएम रश्मी राजपूत ने डिप्टी कलेक्टर और अन्य प्राशासनिक अमले को आदेश दिया कि वो जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर रितेश पटेल की बफना गांव में दुकान को तोड़ डालें.

डीएम के आदेश के बाद हरकत में आए प्राशासनिक अमले ने बिना किसी नोटिस के शाम को ही दुकान पर बुलडोजर चलवा दिया.

प्रशासन की तानाशाही

इस घटना से क्षेत्रीय लोगों में काफी रोष है. वहीं, रितेश पटेल छत्तीसगढ़ सरकार से इस मामले में न्याय की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि सरकार डीएम को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड करे और विभागीय जांच करवाकर मसले को हल करे.

First published: 21 August 2016, 14:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी