Home » इंडिया » Chief Minister Akhilesh Yadav says, Pravasi Diwas will be an annual affair in the state
 

अब उत्तर प्रदेश में भी वाइब्रैंट गुजरात की तर्ज पर होगा एनआरआई सम्मेलन

वीरेंद्र नाथ भट्ट | Updated on: 5 January 2016, 23:06 IST
QUICK PILL
  • मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के मुताबिक आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे और लखनऊ मेट्रो को छोड़कर यूपी की बाकी सभी परियोजनाओं में बड़ी भारतीय कंपनियों और बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने निवेश किया है.
  • उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपीपीडी के पहले ही दिन एनआरआई समुदाय के साथ 13 एमओयू पर हस्ताक्षर किए. पहला एमओयू जीओपीआईओ के साथ किया गया जबकि दूसरे समझौते पर साउथ पैसिफिक यूनिवर्सिटी फिजी के वाइस चांसलर प्रोफेसर राजेश चंद्रा ने हस्ताक्षर किया.

उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए एनआरआई निवेशकों और पीआईओ को आकर्षित करने के मकसद से राज्य के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हर साल प्रवासी दिवस सम्मेलन मनाए जाने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने लुलु ग्रुप इंटरनेशनल को लखनऊ में शॉपिंग मॉल बनाने के लिए हर जरूरी सहयोग जल्द से जल्द देने का वादा किया. संयुक्त अरब अमीरात की यह कंपनी (यूएई) लखनऊ में 1,000 करोड़ रुपये का निवेश कर रही है. 

उत्तर प्रदेश प्रवासी दिवस को जबर्दस्त सफल आयोजन बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, 'अब उनसे (एनआरआई) जुड़ने और जोड़ने का मौका है. एनआरआई की भागीदारी अब तक हमारी उम्मीद से कम रही है.' मुख्यमंत्री ने पहली बार सोमवार को उत्तर प्रदेश प्रवासी दिवस का शुभारंभ किया.

अखिलेश यादव ने कहा, 'यह समय जड़ों से जुड़ने का है. उत्तर प्रदेश बड़ा राज्य है और उत्तर प्रदेश में पैर जमाए बिना किसी भी क्षेत्र में तरक्की करना मुश्किल है. उत्तर प्रदेश एक बड़ा बाजार है और यह समय साथ मिलकर आगे बढ़ने का है. निवेशकों को आकर्षित करने के मामले में उत्तर प्रदेश को उसकी नकारात्मक छवि का नुकसान उठाना पड़ा है.

समाजवादी पार्टी के पिछले चार साल के शासन के दौरान कई बड़ी महत्वाकांक्षी इंफ्रास्ट्रक्चर की परियोजनाएं शुरू की गई है. सरकार बहुत हद तक जमीनी स्तर पर स्थिति और छवि को बदलने में सफल रही है.'

उत्तर प्रदेश तेजी से बदलता राज्य है और एनआरआई के जुड़ने से हम विकास की प्रक्रिया को तेज कर सकते हैं

मुख्यमंत्री ने कहा कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे और लखनऊ मेट्रो को छोड़कर सभी बड़ी भारतीय कंपनियों और कई बहुराष्ट्रीय कंपनियों ने उत्तर प्रदेश में निवेश किया है. कई परियोजनाओं को पूरा किया जा चुका है और कई पर काम शुरू किए जाने की तैयारी चल रही है. उन्होंने कहा कि सरकार ग्रामीण क्षेत्रों में 16 घंटे और शहरी क्षेत्रों में 24 घंटे बिजली आपूर्ति देने का वादा पूरा कर चुकी है. उन्होंने कहा, 'महत्वपूर्ण इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट को तेजी से पूरा किए जाने के बाद राज्य को लेकर इंडस्ट्री की धारणा बदली है.'

लुलु ग्रुप राज्य में होटल और रियल स्टेट प्रोजेक्ट में 4,000 करोड़ रुपये का निवेश करने को इच्छुक है

यादव ने कहा, 'उत्तर प्रदेश पहला राज्य है जो प्रवासी दिवस मना रहा है. इससे पहले केंद्र सरकार इसका आयोजन करती थी. एक और राज्य इस तरह के आयोजन का दावा किया करता था. उत्तर प्रदेश प्रवासी दिवस (यूपीपीडी) ने यह साबित कर दिया है कि उत्तर प्रदेश सबसे बड़े इंडियन डायस्पोरा को साझा करता है और यह आबादी माकूल बिजनेस और निवेश की स्थिति मिलने पर अपना कर्ज उतार सकती है.'

युसूफ अली एमए के लुलु ग्रुप इंटरनेशनल के निवेश प्रस्ताव का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, 'उत्तर प्रदेश सरकार शॉपिंग मॉल को जरूरी सभी स्वीकृतियां जल्द से जल्द देगी. लुलु ग्रुप राज्य में होटल और रियल स्टेट प्रोजेक्ट में 4,000 करोड़ रुपये का निवेश करने को इच्छुक है.'

मुख्यमंत्री ने कहा, 'लुलु ग्रुप के निवेश से राज्य में निवेश को लेकर सकारात्मक माहौल बनेगा और देश भर के निवेशकों के बीच सकारात्मक संदेश जाएगा.' उन्होंने कहा, 'राज्य सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती कृषि क्षेत्र की समस्या और बेरोजगार  युवाओं को नौकरी देने की है. कृषि बेहद दबाव में है और किसान फसल की बर्बादी और प्राकृतिक आपदा की वजह से संकट का सामना कर रहे हैं. हम आपके साथ हाथ मिलाकर निश्चित तौर पर इसका समाधान खोज सकते हैं.'

उन्होंने कहा, 'उत्तर प्रदेश तेजी से बदलता राज्य है और एनआरआई के जुड़ने से हम विकास की प्रक्रिया को तेज कर सकते हैं ताकि गरीबी को खत्म किया जा सके और लोगों की आकांक्षाओं को पूरा किया जा सके.'

आईसीआईसीआई और एचडीएफसी ने दो अलग-अलग एमओयू पर हस्ताक्षर किए

मुख्यमंत्री ने कहा, 'जनसंख्या और आर्थिक तरक्की में वृद्धि होने से शहरीकरण में तेजी आ रही है और शहरों की जनसंख्या में कई गुणा बढ़ोतरी हो रही है. इससे कई परेशानियां सामने आ रही हैं. हम इसे आपके सहयोग से सुलझाना चाहते हैं.'

इस बीच उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपीपीडी के पहले ही दिन एनआरआई के साथ 13 एमओयू पर हस्ताक्षर किए. पहला एमओयू जीओपीआईओ के साथ किया गया जबकि दूसरे समझौते पर साउथ पैसिफिक यूनिवर्सिटी फिजी के वाइस चांसलर प्रोफेसर राजेश चंद्रा ने हस्ताक्षर किया.

इंडिया ट्रेउ एंड एक्जिबिशन सेंटर शारजांह ने भी दुबई और उत्तर प्रदेश के बीच व्यापार को प्रोत्साहित करने के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया. वहीं इंडिया बिजनेस एंड प्रोफेशल काउंसिल दुबई ने भी एमओयू पर हस्ताक्षर किया.

उत्तर प्रदेश और जापान के बीच व्यापार को प्रोत्साहित करने के लिए इंडिया एसोसिएशन ऑफ जापान के प्रेसिडेंट संजय मल्होत्रा ने एमओयू पर हस्ताक्षर किया. फंड ट्रांसफर की प्रक्रिया को और अधिक आसान बनाने के लिए आईसीआईसीआई और एचडीएफसी ने दो अलग-अलग एमओयू पर हस्ताक्षर किए.

First published: 5 January 2016, 23:06 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी