Home » इंडिया » Chief Minister Shivraj Singh Chauhan says self motivation necessary for liquor free Madhya Pradesh
 

शिवराज सिंह चौहान: नशा नाश की जड़, मध्य प्रदेश में स्वप्रेरणा से शराबमुक्ति

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 26 April 2016, 15:18 IST

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि नशा नाश की जड़ है. देवास में एक कार्यक्रम के दौरान शिवराज ने मध्य प्रदेश में स्वप्रेरणा के जरिए शराब की लत छुड़वाने के संकेत दिए.

ग्रामोदय से भारत उदय अभियान के तहत ग्राम संसद में हिस्सा लेने के लिए वो देवास के टिगरिया गोगा गांव में पहुंचे थे.

कार्यक्रम के दौरान शिवराज ने कहा कि मध्य प्रदेश को धीरे-धीरे शराबमुक्त करना है. इस दौरान मुख्यमंत्री ने कहा, "मैं सबसे नशा छोड़ने की अपील करता हूं." 

पढ़ें: बिहार: देसी के बाद विदेशी शराब पर भी बैन

शराबमुक्ति अभियान की अपील


शिवराज सिंह चौहान ने लोगों से स्वप्रेरणा के जरिए शराब की लत छोड़ने की अपील की. मुख्यमंत्री ने इस दौरान गांव के लोगों से शराबमुक्ति के लिए अभियान छेड़ने का आह्वान किया.  

सीएम ने कहा, "डंडा मारने से कोई नशा नहीं छोड़ता इसलिए स्वप्रेरणा की मदद से धीरे-धीरे प्रदेश को इस बुराई से मुक्त कराना है. प्रदेश के शराबमुक्त होने पर हम दूसरे देशों से कह सकेंगे कि हमारे प्रदेश में कोई नशा नहीं करता."

'4 साल में कोई नई दुकान नहीं'


कार्यक्रम के दौरान सीएम शिवराज ने कहा कि नशा नाश की जड़ है जिससे परिवार बर्बाद हो जाते हैं. शिवराज ने कहा, "शराब हमें पी जाती है, कब पी जाती है इसका पता भी नहीं चलता."

पढ़ें: बिहार: देशी शराब बंद और जहरीली शराब पर सजा-ए-मौत

शिवराज ने आगे कहा, "शराब के सेवन से लिवर और गुर्दे खराब हो रहे हैं. मैंने प्रदेश की धरती से पिछले चार साल के दौरान एक भी शराब की नई दुकान नहीं खुलने दी है."

शराब तस्करी में अव्वल एमपी


मुख्यमंत्री ने अपने भाषण के दौरान राज्य सरकार की तरफ से पाबंदी लगाने की बात नहीं कही. हालांकि वो बार-बार स्वप्रेरणा से शराबबंदी का बखान करते नजर आए.

गौरतलब है कि देश में शराब की तस्करी के मामले में मध्य प्रदेश पहले नंबर पर है. 2014 में देश में अवैध शराब के दर्ज कुल मामलोें में मध्य प्रदेश में साढ़े 28 फीसदी केस दर्ज हुए थे.

पढ़ें:जानिए दुनिया के अलग-अलग देशों में शराब पीने की सुरक्षित सीमा

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की रिपोर्ट के मुताबिक 2014 में शराब तस्करी से जुड़े आबकारी एक्ट के तहत देशभर में कुल 1,81,770 मामले दर्ज हुए. इनमें से अकेले मध्य प्रदेश में 51 हजार 646 मामले दर्ज किए गए.

एनसीआरबी की रिपोर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश के हर जिले में शराब के अवैध कारोबार के औसत एक हजार मामले दर्ज हुए हैं.

हाल ही में बिहार की नीतीश कुमार सरकार ने राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू की थी. जिसके बाद वहां देसी और विदेशी शराब की बिक्री और सेवन पर रोक लग गई थी.

First published: 26 April 2016, 15:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी