Home » इंडिया » china also took modi lace said india foreign policy is tight definite in modi government
 

अब चीन भी पीएम मोदी के सामने हुआ नतमस्तक, कहा- मोदी राज में बढ़ी भारत की धाक

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 February 2018, 12:22 IST

आज पूरी दुनिया में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का डंका बज रहा है. अब पड़ोसी देश चीन भी प्रधानमंत्री मोदी का मुरीद हो गया है. चीन के बड़े थिंक टैंक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश नीति की तारीफों के पुल बांधते कहा है कि मोदी सरकार के नेतृत्व में भारत की विदेश नीति गतिशील, मुखर और ज्यादा धाक जमाने वाली हुई है. चीन ने यह भी माना कि मोदी सरकार आने के बाद भारत की जोखिम लेने की क्षमता में भी इजाफा हुआ है.

चाइना इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज (CIIS) के उपाध्यक्ष रोंग यिंग ने पीएम मोदी की तारीफों के पुल बांधते हुए कहा कि मोदी सरकार आने के बाद भारत की कूटनीति बेहद मुखर हुई है. उन्होंने कहा कि यह ‘मोदी सिद्धांत’ के तौर पर विकसित हुई है. इसकी वजह से भारत नई परिस्थितियों में बड़ी ताकत के तौर पर उभरा है.

 

बीजिंग स्थित राजनयिकों के लिए मंगलवार को आयोजित नए साल के भोज के दौरान चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने कहा कि चीन पड़ोसी एवं विकासशील देशों के साथ मित्रता और सहयोग को लेकर प्रतिबद्ध है. चीन क्षेत्रीय एवं ज्वलंत मसलों को सुलझाने में रचनात्मक भूमिका निभाता रहेगा. वह बातचीत व परामर्श के जरिए विवादों और मतभेदों को हल करने को प्रोत्साहित करेगा.

CIIS जर्नल में छपे लेख के मुताबिक, मोदी के 3 वर्षों के कार्यकाल के दौरान भारत एवं चीन के संबंधों में सधी हुई मजबूती आई है. भारत में राजनयिक के तौर पर भी काम कर चुके रोंग यिंग ने लेख में कहा कि दोनों देशों को एक दूसरे के विकास के लिए रणनीतिक सहयोग में सहमति बनानी चाहिए.

ये भी पढ़ें- ओलंपिक खेलों में भी देश को सुपर पॉवर बनाना चाहते हैं पीएम मोदी

उन्होंने अपने लेख में कहा कि चीन और भारत के बीच सहयोग व प्रतिस्पर्धा दोनों की स्थितियां हैं. भविष्य में प्रतिस्पर्धा और सह-अस्तित्व ही नियम बनेगा. यही भारत और चीन के बीच के संबंधों की हकीकत है, जो कभी नहीं बदलेगा. चीन के लिए भारत काफी महत्वपूर्ण पड़ोसी और अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था में सुधार के लिए अहम साझेदार है.

पड़ोसी देशों के साथ जारी सीमा विवादों के बीच चीन ने कहा है कि वह क्षेत्रीय और दूसरे ज्वलंत मसलों को सुलझाने में सकारात्मक भूमिका निभाएगा और विवादों का बातचीत के जरिए समाधान निकालेगा.

First published: 1 February 2018, 12:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी