Home » इंडिया » China blocked indian news websites after India banned 59 chinese apps
 

59 ऐप पर प्रतिबंध के बाद बौखलाया चीन, भारत की न्यूज वेबसाइट्स को किया ब्लॉक

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 June 2020, 14:10 IST

TikTok Ban: भारत सरकार ने टिकटॉक, यूसी ब्राउजर समेत 59 चीनी ऐप को बैन कर दिया है. इस खुन्नस में आकर चीन ने भारतीय न्यूज वेबसाइट्स को ब्लॉक कर दिया है. हालांकि माना यह भी जा रहा है कि सीमा विवाद के मुद्दे पर अपने देश के लोगों के सामने सच छिपाने के लिए चीन ने भारत के टीवी चैनलों तथा न्यूज वेबसाइट्स को ब्लॉक किया है.

रिपोर्ट्स के अनुसार, चीन की सरकार ने भारतीय सरकार द्वारा की जा रही कार्रवाई से खुन्नस में आकर ऐसा किया है. इसके अलावा वह नहीं चाहता कि उसके नागरिक अपने सरकार की करतूत जान सकें. चीन नहीं चाहता कि भारतीय सेना के शौर्य के बारे में वहां के नागरिकों को पता चले. इस वजह से भी उसने अपने देश में भारतीय टीवी और वेबसाइट्स को ब्लॉक किया है.

अब TikTok पर वीडियो नहीं बना पाएंगे आप, मोदी सरकार ने 59 चाइनीज ऐप पर लगाया बैन

हालांकि, चीन में वीपीएन के जरिए भारतीय न्यूज वेबसाइट्स देखी जा सकती हैं. बीजिंग के राजनयिक सूत्रों ने बताया कि भारतीय टीवी चैनलों को आईपी टीवी के जरिए भी एक्सेस किया जा सकता है. बता दें कि पिछले दो दिनों से चीन में आईफोन और डेस्कटॉप पर एक्सप्रेस वीपीएन भी काम नहीं कर रहा है. 

Google Play store और App store से भी हटा टिकटॉक, आपके फोन में चल रहा है तो, यहां है पूरी जानकारी

वीपीएन ऐसा टूल है, जिसके जरिए कोई भी यूजर ब्लॉक की गई वेबसाइट्स को देख सकता है. लेकिन चीन ने एडवांस टेक्नोलॉजी के जरिए एक ऐसा फायरवॉल बनाया है, जो वीपीएन को भी ब्लॉक कर सकता है. पहले से ही चीन अपनी दमनकारी ऑनलाइन सेंसरशिप के लिए बदनाम रहा है. जि नपिंग सरकार ने पहले ही देश में कई ऑनलाइन वेबसाइट्स पर रोक लगाई है.

चीन की सरकार एडवांस तकनीक का इस्तेमाल कर दूसरे देश की कुछ वेबसाइट्स को अपने यहां खुलने नहीं देती. हॉन्गकॉन्ग विरोध प्रदर्शन से जुड़ा कोई शब्द बीबीसी अथवा सीएनएन पर प्रकाशित होता है तो चीन में स्क्रीन अपने आप ही ब्लैंक हो जाती है. इसके बाद यूजर होम पेज अथवा टॉपिक पेज पर चला जाता है.

डोनाल्ड ट्रंप की गिरफ्तारी का वारंट हुआ जारी, हिरासत में लेने के लिए इंटरपोल से मांगी गई मदद

बैन करने पर आयी Tiktok की ओर से प्रतिक्रिया, कहा- चीनी सरकार से नहीं करते डेटा शेयर

First published: 30 June 2020, 14:10 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी