Home » इंडिया » China Firm signed a MOu with baba ramdev's Patanjali and other
 

चीन में मची बाबा रामदेव के स्वदेशी ब्रांड 'पतंजलि' की धूम, चीन के फर्म ने साइन किया समझौता

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 December 2018, 12:51 IST

भारत में बाबा रामदेव के पतंजलि के आयर्वेदिक और स्वदेशी के प्रोडक्ट्स ने भारतीय बाजार पर काफी हद तक जगह बनाई है. अब पतंजलि ने चीन की एक फर्म के साथ एक समझौता किया है. रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेल और चीन की एक फर्म एडमिनिस्ट्रेटिव कमेटी ऑफ नबडागंग इंडस्ट्रियल पार्क ने एक एमओयू पर हस्ताक्षर किये हैं.

ये करार आयुर्वेद के क्षेत्र में दोनों कंपनियों के मिल कर रिसर्च और साइंस को बढ़ावा देने के लिए किया गया है. इस करार के मकसद आयुर्वेद की दुनिया में नई संभावनाओं को खोजना है. पतंजलि ने ये समझौता चीन में ही साइन किया है. चीन के साथ हुए इस समझौते के बारे में पतंजलि आयुर्वेद के चेयरमैन बाल कृष्ण ने अपने फेसबुक पेज बताया. बाबा रामदेव के सहयोगी ने इस बारे में अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट किया.

पतंजलि आयुर्वेद के चेयरमैन बाल कृष्ण ने फेसबुक चीन के साथ साइन हुए इस एमओयू की तस्वीर भी शेयर की. पतंजलि के इस नए कदम के बारे में बताते हुए बाल कृष्ण ने फेसबुक पर लिखा, ''भारतवर्ष एवं भारतीय संस्कृति के लिए गौरव का क्षण” चीन के हेबेई प्रांत के नबडागंग में एडमिनिस्ट्रेटिव कमेटी ऑफ नबडागंग इंडस्ट्रियल पार्क व पतंजलि आयुर्वेद लिमिटेड, भारत व दो अन्य संस्थाओं के बीच एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए, जिसके तहत यहाँ की सरकार ने भारत वर्ष की हर तरह की कला,संस्कृति, परंपरा,योग,आयुर्वेद अनुसंधान, जड़ी-बूटी अन्वेषण, योग- केंद्र , पर्यटन, सूचना प्रौद्योगिकी, शिक्षा, मीडिया आदि गतिविधियों के लिए कार्य करने हेतु स्वीकृति दी तथा सभी संसाधन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया.''

ये भी पढ़ें-  मोदी सरकार की मंदिरोें से हुई अरबों की कमाई, कीमत जानकर हो जाएंगे हैरान

गौरतलब है कि इस एमओयू में पतंजलि के अलावा अन्य कई ग्रुप भी हैं. इनमे से नेपाल का सीएम ग्रुप और इसके साथ ही चाइनीज कल्चरल प्रमोशनल सोसाइटी और मलेशिया ब्रांच भी इसमें शामिल हैं. इस बारे में बताते हुए बाल कृष्ण ने कहा कि पतंजलि के प्रोडक्ट्स के गुणों से सभी लोग प्रभावित हैं. साथ ही उन्होने कहा कि पतंजलि का मकसद है कि भारतीय संस्कृति, परम्परा, योग, आयुर्वेद को पूरी दुनिया में फैलाया जाए. भारत की इस विधा को पूरी दुनिया में पहचान दिलाना ही पतंजलि का मुख्य उद्देश्य है.

ये भी पढ़ें- PoK के 'PM' ने लगाई पाकिस्तान से गुहार, कश्मीर और पाक अधिकृत कश्मीर को जोड़ने की तैयारी

First published: 16 December 2018, 12:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी