Home » इंडिया » China is responsible for indian unemployment, modi meet Xi Jinping in brics submit
 

4 महीने में 3 बार चीनी राष्ट्रपति से मिले पीएम मोदी, फिर भी देश ने भुगता इतना नुकसान

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 July 2018, 14:51 IST

भारत में बेरोजगारी युवाओं की सबसे बड़ी समस्या है. बेरोजगारी के लिए सरकार बहुत कुछ सार्थक समाधान करने में सक्षम नहीं दिख रही है. इसी बीच भारत के रोजगार को लेकर एक बड़ी रिपोर्ट सामने आयी है. संसदीय समिति ने एक रिपोर्ट पेश की है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत की लगभग 2 लाख नौकरियां चीन की वजह से चली गयीं है.

उधर दक्षिण अफ्रीका में चल रहे ब्रिक्स सम्मलेन में प्रधानमंत्री मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग से भी मुलाकात की. ये मोदी की जिनपिंग से तीसरी भेंट है. इस मुलाक़ात में भारत ने निर्यात का मुद्दा उठाया. गौरतलब है कि भारत चीन से काफी मात्रा में आयात करता है, लेकिन निर्यात करने की संख्या बहुत कम है. मोदी सरकार चाहती है की चीन के साथ आयात और निर्यात के बीच के अंतर को कम कर दिया जाए.

एक संसदीय समिति की रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है कि देश में ‘चाइनीज सोलर पैनल’ के कारण दो लाख नौकरियां खत्म हुईं हैं. अगले महीने भारत से एक डेलिगेशन इस मामले में चीन जाएगा. रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि चीनी सामानों के आयात के कारण ही देश के उद्योगों पर खतरा मंडरा रहा है.

ये भी पढ़ें- इस क्रिकेट स्टेडियम पर मंडरा रहे खतरे के बादल, ध्वस्त किया जा सकता है पवेलियन

 

क्या लिखा है संसदय रिपोर्ट में

रिपोर्ट के अनुसार चीन के सोलर पैनल डम्पिंग नीति के चलते भारत की 2 लाख के आस पास नौकरियां ख़त्म हो गयी हैं. रिपोर्ट में लिखा है कि साल 2011 से 12 के बीच भारत सोलर उपकरणों का बड़ी मात्रा में निर्यात करता था. लेकिन चीन की इस डंपिंग पॉलिसी के चलते भारत से सोलर सामानों के निर्यात में बहुत कमी आयी है. इसके चलते कपडा उद्योग में भी भारी नुकसान हुआ है. सस्ते आयात के चलते सूरत और भिवंडी के 35% पावरलूम यूनिट बंद हो गई हैं.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान चुनाव 2018: इमरान खान के पीएम बनने को लेकर पहली पत्नी ने ट्वीट कर कहा...

उधर पीएम मोदी ने कहा कि इस मीटिंग के जरिए चीन के साथ बेहतर रिश्ते बनाने का एक और मौका है. भारत की ये कोशिश रहेगी कि चीन को भारत के पाले में रखे क्योंकि पाकिस्तान में इमरान खान की जीत के बाद पकिस्तान चीन से सम्बन्ध सुधरने की कोशिश करेगा. और चीन से पाकिस्तान की नजदीकियां भारत के लिए खतरा हो सकती हैं.

First published: 27 July 2018, 14:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी