Home » इंडिया » China protest to Indian patrolling in Asaphila, Indian Army objected and said that it will continue to patrol up to the LOC
 

चीन ने डोकलाम के बाद चली नापाक चाल, अरूणाचल में पेट्रोलिंग को बताया 'अतिक्रमण'

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 April 2018, 19:56 IST
(india china)

भारत और चीन के बीच एक बार फिर आमने-सामने की स्थिति पैदा हो गई है. डोकलाम विवाद के बाद अब अरूणाचल प्रदेश असाफिला इलाके को लेकर दोनों देशों के बीच तनाव पैदा हो गया है. सामरिक रूप से संवेदनशील असाफिला इलाके में सीमा के पास भारतीय जवानों की पेट्रोलिंग को चीन ने अतिक्रमण करार देते हुए विरोध दर्ज कराया है. लेकिन भारतीय सेना ने चीन की इस आपत्ति को पूरी तरह से खारिज कर दिया है.

इसके साथ ही चीन ने इस इलाके पर फिर से अपना दावा ठोका है. उसने इस क्षेत्र में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग को अतिक्रमण बताया. चीन का दावा है कि असफिला क्षेत्र उसका हिस्सा है. पीटीआई के सूत्रों के अनुसार चीन ने यह मामला बॉर्डर पर्सनल मीटिंग (बीपीएम) में 15 मार्च को उठाया था, लेकिन भारतीय खेमे ने उसे पूरी तरह से खारिज कर दिया है. भारत ने यह साफ कर दिया गया कि अरूणाचल प्रदेश का ऊपरी सुबानसिरी क्षेत्र भारत का हिस्सा है और वहां पर कई सालों से लगातार पेट्रोलिंग की जाती रही है और आगे भी जारी रहेगी.

ये भी पढ़ें - पाकिस्तान की सीनाजोरी, संघर्ष विराम उल्लंघन को लेकर भारतीय राजनयिक को किया तलब

चीन की तरफ से भारत के इस पेट्रोलिंग को अतिक्रमण करार दिया गया. चीन के इस रुख पर भारतीय सेना ने कड़ी आपत्ति दर्ज कराई. चीन के विरोध को खारिज करते हुए भारत की तरफ से कहा गया कि उनके जवान नियंत्रण रेखा से भली भांति वाकिफ हैं और सेना देशों के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास पेट्रोलिंग करती रहेगी.

असफिला इलाके में भारतीय सेना की पेट्रोलिंग का विरोध ड्रैगन की सोची समझी चाल है, जिससे कि वो भारतीय सेना पर दबाब बना सके. अरुणाचल के इस इलाके में चीन की सेना अक्सर घुसपैठ करती रहती है. पहले भी इस इलाके में चीन ने निर्माण कार्य करने की कोशिश की थी, भारतीय सेना के विरोध के बाद चीन को यहां पर निर्माण कार्य को बंद करना पड़ा था.

First published: 8 April 2018, 19:53 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी