Home » इंडिया » China's Huawei offers big offers to India before US Secretary of State visits
 

अमेरिकी विदेश मंत्री की यात्रा से पहले चीन की Huawei ने भारत को दिया बड़ा ऑफर

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 June 2019, 12:14 IST

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ की भारत यात्रा से एक दिन पहले चीन की दिग्गज कंपनी हुआवेई टेक्नोलॉजीज ने कहा है कि वह भारत की संभावित सुरक्षा चिंताओं को स्वीकार करने के लिए भारत सरकार के साथ 'नो बैक डोर' संधि पर हस्ताक्षर करने को तैयार है.

कंपनी को उम्मीद है कि यह उपाय भारत सरकार को किसी भी साइबर सुरक्षा उल्लंघन के बारे में आश्वस्त करने में मदद करेगा. हुआवई को इस बात का अंदाजा है कि पोम्पिओ की इस यात्रा के दौरान भारत से 5जी पर चर्चा कर सकते हैं. अमेरिका लगातार अपने सहयोगियों से हुवावेई को प्रतिबंधित करने की मांग कर रहा है.

 

हुआवेई जिस बैक डोर की बात कर रही है उसमें आपूर्तिकर्ता ग्राहक के नेटवर्क तक सहमति के बिना नहीं पहुंच सकता है. हुआवेई इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जे चेन ने एक इंटरव्यू में कहा, “मैं अपने ग्राहकों (टेलीकॉम) और भारत सरकार के साथ बैक नो बैक डोर समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए तैयार हूं.

उन्होंने कहा "मैं उन सभी मूल उपकरण निर्माताओं को इसका प्रस्ताव देना चाहूंगा जो ग्राहकों (टेलीकॉम) और सरकार के साथ नेटवर्क सुरक्षा अनुपालन के लिए इस समझौते पर हस्ताक्षर करते हैं. यह सुरक्षा चिंताओं पर सरकार को विश्वास और विश्वास दिलाने के लिए है''. 25 से 27 जून की अपनी भारत यात्रा के दौरान पोम्पिओ भारत में 5जी रोल-आउट में हुआवेई की भागीदारी सहित विभिन्न मुद्दों पर भारत सरकार से चर्चा कर सकते हैं.

पिछले साल से अमेरिका ने लगातार अपने सहयोगियों पर 5G रोल-आउट से हुआवेई पर प्रतिबंध लगाने के लिए दबाव डाला है कि चीन सरकार ने जासूसी के लिए वाहन के रूप में कंपनी का उपयोग किया, लेकिन कंपनी ने इससे हमेशा इंकार किया है. ऑस्ट्रेलिया और जापान ने हुआवेई पर प्रतिबंध लगा दिया है, जबकि कनाडा और न्यूजीलैंड भी इसका पालन कर सकते हैं.

अमेरिकी विदेश मंत्री का आज भारत दौरा, पीएम मोदी और जयशंकर के साथ होगी इन अहम मुद्दों पर बात

First published: 25 June 2019, 11:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी