Home » इंडिया » China telecommunications tower and surveillance equipment in other side Arunachal pradesh
 

चीन ने की घुसपैठ की हदें पार, अरुणाचल में बनाए PLA कैंप, पोस्ट और टावर

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 March 2018, 12:46 IST

चीन लगातार अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. उसने अरुणाचल प्रदेश के एक हिस्से में निर्माण कार्य शुरू कर दिया है. अरुणाचल प्रदेश के किबिथु की दूसरी ओर टाटू में चीन ने इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर लिए हैं, जिसमें चीनी सेना (पीएलए) के कैम्प और घर भी शामिल हैं.

न्यूज एजेंसी एएनआई की तस्वीरों के मुताबिक अरुणाचल प्रदेश के किबिथु के दूसरी ओर टाटू में चीन ने इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर लिया है. तस्वीरों में साफ दिखता है कि चीन ने इन इलाकों में घर और कैंप बनाए हैं. इसके अलावा चीन ने मोबाइल टावर भी खड़े कर लिए हैं.

 

चीन ने ऐसे पोस्ट भी बनाए हैं जहां से वह सर्विलांस उपकरणों के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर नजर बना सकता है. बता दें कि भारत-चीन के बीच लंबी सीमा तीन क्षेत्रों में विभक्त है. पश्चिमी क्षेत्र लद्दाख और अक्साई चीन के बीच है, मध्य क्षेत्र उत्तराखंड और तिब्बत के बीच है और पूर्वी क्षेत्र तिब्बत को सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से अलग करता है.

गौरतलब है कि चीन में भारत के राजदूत गौतम बंबावले ने कहा था कि भारतीय सीमा पर बदलाव करने के चीन के किसी भी प्रयास से एक और डोकलाम जैसी स्थिति पैदा हो सकती है. उन्होंने कहा थाी कि ऐसी घटनाओं से बचने का सर्वोत्तम उपाय स्पष्ट और खुलकर बातचीत करना है.

पढ़ें- पढें- फिर बड़े परदे पर दिखेंगी 'श्रीदेवी', 'हवा-हवाई' के किरदार में होगी ये एक्ट्रेस

बता दें कि अरुणाचल प्रदेश तिब्बत से लगा हुआ है और तिब्बत खुद को स्वतंत्र देश बताता है जबकि चीन उसे अपना हिस्सा मानता है. तिब्बत के नेता दलाई लामा करीब छह दशकों से भारत में शरण लिए हुए हैं. चीन दलाई लामा की भारत में मौजूदगी को लेकर भी सवाल उठाता रहा है.

First published: 31 March 2018, 12:42 IST
 
अगली कहानी