Home » इंडिया » Chirag paswan writes a letters to pm modi over sc-st act demand to dismiss justice ak goel from NGT
 

SC-ST कानून पर चिराग पासवान ने लिखा पीएम मोदी को खत, दोबारा आंदोलन की हिंसा से बचना है तो पूरी करें ये मांगें

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 July 2018, 13:10 IST

SC-ST कानून पर लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चिराग पासवान ने प्रधानंमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम एक खत लिखा है. इस खत से मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. चिराग पासवान ने अनुसूचित जाति और जनजाति के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट के जज एके गोयल ने 20 मार्च को SC/ST (अत्याचार निवारण) अधिनियम पर निर्णय दिया था जिसके बाद से अनुसूचित जाति और जनजाति समुदाय असंतुष्ट है.

चिराग ने चेतावनी देने के अंदाज में लिखा कि इस कानून के खिलाफ अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग ने दो फरवरी को आंदोलन के दौरान उग्र प्रदर्शन किया था. इस आंदोलन के हिंसक हो जाने से कई लोगों को नुकसान हुआ था. इसके जलते जान माल का काफी नुकसान हुआ था.

पढ़ें- अलवर लिंचिंग: रकबर की मौत पुलिस की गलती से नहीं भीड़ की पिटाई से हुई

इस कानून के कारण अनुसूचित जाती और जनजाति के लोगों में सरकार के प्रति अविश्वास का माहौल है. उन्होंने सलाह देते हुए लिखा कि इस मामले में उचित्त कदम उठाने चाहिए. उन्होंने कहा कि उनकी मांगे पूरी होनी चाहिए जिससे की इससे अनुसूचित और जनजाति वर्ग के बीच सरकार के प्रति विश्वास बने. और इससे नौ अगस्त को भारत बंद से होने वाले नुकसान को भी रोका जा सकेगा.

पढ़ें- मुजफ्फरपुर बालिका गृह रेप केस:नीतीश कुमार ने दिए CBI जांच के आदेश

 

चिराग पासवान ने कहा जज एके गोयल को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल(NGT)का चेयरमैन बनाने पर भी सवाल उठाये हैं. उन्होंने कहा कि जस्टिस गोयल के इस प्रमोशन से अनुसूचित जाति और जनजातीय को ऐसा लगता है कीं जैसे उनके खिलाफ फैसला सुनाने के एवज में सरकार ने ये नियुक्ति देकर उन्हें इनाम दिया है.

ये हैं चिराग की मांगें-

1 - जस्टिस एके गोयल को नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के चेयरमैन पद से हटाया जाए.

2 - SC/ST (अत्याचार निवारण) अधिनियम पर संशोधित बिल बिल लाया जाए.

 

First published: 26 July 2018, 12:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी