Home » इंडिया » Citizenship Amendment Bill: Bhupen Hazarika son will not accept the Bharat Ratna for his father
 

नागरिकता विधेयक के विरोध में भूपेन हजारिका के परिवार ने भारत रत्न लेने से किया इंकार

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 February 2019, 13:02 IST

केंद्र की मोदी सरकार ने भूपेन हजारिका भारत रत्‍न देने की घोषणा की थी, लेकिन अब उनके बेटे इसे लेने से इनकार कर दिया है. तेज हजारिका ने कहा है कि जब तक सरकार नागरिकता संशोधन विधेयक, 2016 को वापस नहीं ले लेती तब तक उन्हें भारत रत्न स्वीकार नहीं होगा. भूपेन हजारिका को 25 जनवरी को मोदी सरकार ने देश के सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार से नवाजने का ऐलान किया था.

भूपेन हजारिका के बेटे तेज हजारिका ने सोमवार को व्‍हाट्सऐप पर एक बयान जारी कर पिता भूपेन हजारिका के लिए मरणोपरांत भारत रत्‍न स्‍वीकार करने से मना कर दिया. उन्‍होंने कहा, "यह बहुत बड़ा सम्‍मान है, लेकिन इसे लेने का सही वक्‍त अभी नहीं है."

वैलेंटाइन डे पर इस राशि की लड़की को करने जा रहे हैं प्रपोज तो हो जाएं सावधान !

उन्‍होंने कहा कि अगर उनके पिता जीवित होते तो उनकी भी यही राय होती. तेज ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार ने इस सम्मान को देने में जिस तरह की जल्दबाजी दिखाई है और जो समय चुना है वह और कुछ नहीं बस लोकप्रियता का फायदा उठाने का सस्ता तरीका है.

हालांकि इस निर्णय पर भूपेन हजारिका का परिवार भी बंटा दिखा. अमेरिका में रह रहे उनके बेटे तेज हजारिका और उनके भाई समर इस फैसले पर एकमत नहीं. समर का कहना है कि भूपेन हजारिका जैसे लीजेंड के लिए इस तरह व्यक्तिगत रूप से इतना बड़ा फैसला नहीं लिया जा सकता.

केंद्रीय कर्मचारियों पर मेहरबान मोदी सरकार, 27 साल पहले नियम को बदलकर दिया बड़ा तोहफा

बता दें कि असम में पिछले काफी दिनों से नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर प्रदर्शन हो रहा है. सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को अब तक हिरासत में लिया जा चुका है. वहीं गुवाहाटी दौरे पर दो दिन पहले पीएम मोदी ने कहा था कि जो सम्मान भूपेन हजारिका को बहुत पहले मिल जाना था, वे अब जाकर मिला है. पीएम ने कहा था कि नागरिकता कानून को लेकर कुछ लोग भ्रम फैला रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा था कि केंद्र सरकार असम और पूर्वोत्तर के सभी राज्यों की संस्कृति, भाषा और संसाधनों की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध है. 

First published: 12 February 2019, 12:10 IST
 
अगली कहानी