Home » इंडिया » Citizenship Amendment Bill : Mass hunger strike in Assam against CAB
 

नागरिकता बिल के खिलाफ असम में प्रदर्शन जारी, सामूहिक भूख हड़ताल पर बैठे लोग

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 December 2019, 8:57 IST

Citizenship Amendment Bill : नागरिकता बिल के खिलाफ असम (Assam) समेत पूर्वोत्तर (North East) में विरोध जारी है. हालांकि इसी बीच गुवाहाटी में कर्फ्यू में ढील दी गई है. गुवाहाटी में सुबह 9 बजे से शाम चार बजे तक के लिए कर्फ्यू हटा दिया गया है. इस बिल के खिलाफ अखिल असम छात्र संघ ने शुक्रवार को भूख हड़ताल की. इसके अलावा दिल्ली की जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी में भी नागरिकता विधेयक के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया गया.

प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. वहीं प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव कर दिया. वहीं मेघालय (Meghalaya) और त्रिपुरा में हालात तनावपूर्ण बने हुए हैं. जगह जगह प्रदर्शन हो रहे हैं. असम में स्कूलों और कालेजों को 22 दिसंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है. वहीं हालातों के मद्देनजर पूर्वोत्तर राज्यों के संवेदनशील इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं. पड़ोसी राज्य मेघालय और त्रिपुरा में ऐहतियात इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं. असम की राजधानी गुवाहाटी के अलावा डिब्रूगढ़ में पहले से अधिक शांति है हालांकि तनाव बना हुआ है. 


वहीं राजस्थान के जैसलमेर में शुक्रवार को एक शिविर लगाया गया. जिसमें पाकिस्तान से आए शरणार्थियों ने भारतीय नागरिकता के लिए सभी औपचारिकताओं को पूरा किया. जिला प्रशासन की ओर से इस शिविर का आयोजित किया गया था. इस संबंध में स्थानीय एसडीएम ने कहा कि शिविर में 15 आवेदक आए हैं. हम संबंधित विभागों को एक मंच पर लाने के लिए ऐसे शिविरों का आयोजन समय-समय पर करते हैं. वहीं नागरिकता बिल को लेकर पूर्वोत्तर के राज्यों में हो रहे प्रदर्शन को देखते हुए अमेरिकी दूतावास और वाणिज्य दूतावास ने अपने नागरिकतों को पूर्वोत्तर के राज्यों की यात्रा न करने की चेतावनी दी है.

नागरिकता बिल के विरोध में शुक्रवार को उत्तर प्रदेश, बंगाल और झारखंड में भी कई जगह विरोध प्रदर्शन किये गए. बंगाल में कानून के विरोध में लोगों ने अलग-अलग स्टेशनों पर ट्रेनों का संचालन ठप कर दिया. ट्रेनों में पथराव के साथ ही स्टेशनों में भी तोड़फोड़ और आगजनी की गई. साथ ही प्रदर्शनकारियों ने रेलवे कर्मचारियों और आरपीएफ जवानों के साथ भी मारपीट की. पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के 106 ट्रनों को रद्द करने और विमान सेवाएं प्रभावित होने से फंसे यात्रियों को बाहर निकाला जा रहा है.

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के लिए सीएम योगी ने हर परिवार से मांगे पत्थर और 11 रुपये

Vijay Diwas: 8 महीने तक इंदिरा गांधी को बांग्लादेश के आजाद होने का इंतजार करना पड़ा

FASTag : अगर आपने भी नहीं कराई अभी तक KYC तो न करें कोई चिंता, जानिए क्या है वजह

First published: 14 December 2019, 8:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी