Home » इंडिया » CJI Deepak mishra impeachment case today SC 5 judge bench will hear the case
 

महाभियोग मामला: CJI दीपक मिश्रा मामले में SC की पांच जजों की बेंच आज करेगी सुनवाई

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 May 2018, 7:26 IST

सुप्रीम कोर्ट आज चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ ख़ारिज हुए महाभियोग प्रस्ताव पर दायर याचिका पर सुनवाई करेगी. ये याचिका कांग्रेस सांसदों की तरफ से दायर की गयी थी. आज 5 जजों की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी. उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू की ओर से प्रस्ताव खारिज होने पर कांग्रेस सांसद प्रताप सिंह बाजवा और अमी याग्निक ने कोर्ट में इसे चुनौती दी थी.

पांच जजों की बेंच में ये होंगे जज
सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को होने वाले कामकाज की सूची के अनुसार न्यायमूर्ति ए के सिकरी, न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति एन वी रमण, न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा और न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की पांच सदस्यीय संविधान पीठ याचिका पर सुनवाई करेंगे. इस याचिका को उन न्यायाधीशों के सामने सूचीबद्ध नहीं किया गया जो वरिष्ठता के क्रम में दूसरे से पांचवें स्थान पर हैं. ये न्यायाधीश जे चेलामेश्वर, रंजन गोगोई, मदन बी लोकूर और कुरियन जोसेफ हैं.

ये भी पढ़ें- CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर मनमोहन सिंह ने नहीं किया दस्तखत!

गौरतलब है कि कांग्रेस सांसदों की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल और प्रशांत भूषण ने कोर्ट में कहा कि चीफ जस्टिस मास्टर ऑफ रोस्टर ज़रूर हैं लेकिन ये मामला उनसे सीधे जुड़ा है. इसलिए सुनवाई का आदेश दूसरे वरिष्ठतम जज दें. जस्टिस चेलमेश्वर ने शुरआत में थोड़ी अनिच्छा जताई लेकिन वकीलों के बार बार अनुरोध पर उन्होंने कहा कि आप लोग कल आइए.

वेंकैया नायडू ने विपक्षी दलों पर उठाये सवाल
विपक्ष ने न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा के खिलाफ ‘कदाचार’ और ‘पद के दुरुपयोग’ का आरोप लगाते हुए महाभियोग का प्रस्ताव दिया था. उपराष्ट्रपति और राज्यसभा चेयरमैन वेंकैया नायडू ने विपक्ष के इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया था. विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए वैंकया नायडू ने विपक्षी दलों पर सवाल उठाए. नायडू ने कहा था कि यह तकनीकी तौर पर किसी भी तरह से मंजूर करने लायक नहीं है. कांग्रेस ने वेंकैया नायडू के फैसले को 'असंवैधानिक और गैरकानूनी' करार दिया था.

ये भी पढ़ें- CJI के खिलाफ इन पांच कारणों से महाभियोग ला रही है कांग्रेस, जमीन हथियाने का भी मामला

जानें पूरा मामला
आपको बता दें कि कुछ महीने पहले सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जस्टिस जस्टिस जे चेलमेशवर, जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसफ ने मीडिया के सामने आकर सीजेआई दीपक मिश्रा की प्रशासनिक कार्यशैली पर सवाल उठाए थे. इसके बाद कांग्रेस, वामदलों ने महाभियोग की तैयारी शुरू की थी.

हालांकि समर्थन नहीं मिलने की वजह से पैर पीछे खींच लिये थे. अब एक बार फिर जज बी एच लोया मामले में कांग्रेस और वामदल बैकफुट पर है ऐसे में विपक्षी पार्टियां महाभियोग पर विचार कर रही है. इन लोगों ने 12 जनवरी को प्रेंस कांफ्रेस कर जस्टिस दीपक मिश्रा पर कई आरोप लगाए थे.

First published: 8 May 2018, 7:26 IST
 
अगली कहानी