Home » इंडिया » CJI Gogoi recuses himself from hearing plea challenging interim CBI chief Rao’s appointment
 

CJI ने नागेश्वर राव की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका से खुद को किया अलग

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 January 2019, 12:24 IST

भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने सोमवार को एम नागेश्वर राव की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के अंतरिम प्रमुख के रूप में नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई से खुद को अलग कर लिया. CJI ने कहा कि वह उस उच्च स्तरीय समिति का हिस्सा हैं जो 24 जनवरी को नए CBI प्रमुख की नियुक्ति के लिए बैठक करेगी. उसी दिन राव के मामले पर सुनवाई होनी है.

इस मामले की सुनवाई अब जस्टिस एके सीकरी करेंगे. राव की नियुक्ति को गैर सरकारी संगठन कॉमन कॉज ने चुनौती दी थी. याचिका में कहा गया है कि नागेश्वर राव की नियुक्ति "उच्चस्तरीय चयन समिति की सिफारिशों के आधार पर नहीं की गई थी". याचिका पूर्णकालिक निदेशक की नियुक्ति चाहती है.

यह भी चाहता है कि लोकपाल और लोकायुक्त अधिनियम, 2013 द्वारा संशोधित दिल्ली विशेष पुलिस स्थापना अधिनियम, 1946 की धारा 4 ए में निर्धारित प्रक्रिया का पालन सीबीआई निदेशक की नियुक्ति के लिए किया जाना चाहिए.

याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि “सरकार ने CBI के निदेशक की स्वतंत्र और अवैध तरीके से नियुक्ति करके CBI की संस्था की स्वतंत्रता को कलंकित करने का प्रयास किया है.” प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली समिति द्वारा सीबीआई के पूर्व प्रमुख आलोक वर्मा को हटाए जाने के बाद, राव को दूसरी बार एजेंसी के अंतरिम प्रमुख के रूप में नामित किया.

वर्मा को अग्नि सेवा, नागरिक सुरक्षा और होम गार्ड के महानिदेशक के रूप में स्थानांतरित किया गया था, जिस प्रस्ताव को उन्होंने अस्वीकार कर दिया था.

First published: 21 January 2019, 12:05 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी