Home » इंडिया » Coal scam: Gondwana Ispat Ltd director to 4 years in jail by Special CBI court sentences
 

कोयला घोटाला : CBI अदालत ने सुनाई इस्पात कंपनी के डायरेक्टर को चार साल की जेल

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 May 2018, 13:02 IST

दिल्ली में एक सीबीआई की एक विशेष अदालत ने कोयला ब्लॉक आवंटन घोटाले में मंगलवार को गोंडवाना इस्पात लिमिटेड के निदेशक अशोक डागा को उनकी भूमिका के लिए चार साल की जेल की सजा सुनाई है. 27 अप्रैल को दागा को दोषी ठहराते हुए अदालत ने उन्हें 1 करोड़ रुपये का जुर्माना और फर्म को 60 लाख रुपये का भुगतान करने का निर्देश दिया है.

2014 में दायर एक एफआईआर में महाराष्ट्र में माजरा कोयला ब्लॉक प्राप्त करने के लिए फर्म और डागा पर तथ्यों को गलत तरीके से प्रस्तुत करने के आरोप थे. इसका आवंटन 2003 में किया गया था. केंद्रीय जांच ब्यूरो 1993 से 2010 के बीच कॉल ब्लॉक के आवंटन की जांच कर रहा है.

 

आवंटन अगस्त 2012 में जांच के घेरे में आया था. जब भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक ने एक रिपोर्ट में कहा गया था कि इस आवंटन में 1.86 ट्रिलियन रुपये का नुकसान हुआ है और कोल ब्लॉक गलत आवंटन किये गये थे.

सीबीआई ने आरोप-पत्र में आरोप लगाया था कि जांच के दौरान पाया गया कि डागा ने लौह अयस्क के संबंध में ओडिशा सरकार के साथ समझौते और वित्तीय तैयारी को लेकर भी अप्रमाणित दावे किए.

ये भी पढ़ें : रांची अस्पताल पहुंचने से पहले ट्रेन में खराब हुई लालू की तबियत, इमरजेंसी में बुलाया गया डॉक्टर

First published: 1 May 2018, 13:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी